औरंगाबाद का अतीत भाग – 2 : राजमल बोरा द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – आत्मकथा | Aurangabad Ka Atit Part – 2 : by Rajmal Bora Hindi PDF Book – Autobiography (Atmakatha)

औरंगाबाद का अतीत भाग - 2 : राजमल बोरा द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - आत्मकथा | Aurangabad Ka Atit Part - 2 : by Rajmal Bora Hindi PDF Book - Autobiography (Atmakatha)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name औरंगाबाद का अतीत भाग – 2 / Aurangabad Ka Atit Part – 2
Author
Category, , ,
Language
Pages 382
Quality Good
Size 15.8 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : रानी से कहकर अपने छोटे भाई हरदौल को विष देने के लिए विवश किया । रानी अपने देवर को बहुत चाहती थी | उसने हरदौल को सब बतला दिया था। फिर भी उसने विष मिश्रित भोजन कर लिया । इससे हरदौल की तत्काल मृत्यु हो गई । बुन्देलखण्ड में हददौल का यह कथानक बहुत प्रसिद्ध है | हरदौल के चबूतरे बाद में बहुत जगह बने है…………

Pustak Ka Vivaran : Rani se kahakar apane chhote bhai hardaul ko vish dene ke liye vivash kiya . Rani apane devar ko bahut chahati thee . Usane hardaul ko sab batala diya tha. Phir bhee usane vish mishrit bhojan kar liya . Isase hardaul ki tatkal mrtyu ho gayi . Bundelakhand mein hardaul ka yah kathanak bahut prasiddh hai. Hardaul ke chabootare bad mein bahut jagah bane hai……..

Description about eBook : After telling the queen, he forced his younger brother Hardaul to poison him. The queen loved her brother-in-law a lot. He told everything to Hardaul. Still, he ate poison mixed food. This led to Hardoul’s immediate death. This story of Hardaul is very famous in Bundelkhand. The plots of Hardaul have become very much later……..

“पहले वे आपको नज़रअंदाज़ करते हैं। उसके बाद वे आप पर हंसते हैं। फिर वे आप से लड़ते हैं। और उसके बाद आप जीत जाते हैं।” ‐ महात्मा गांधी
“First they ignore you. Then they laugh at you. Then they fight you. Then you win.” ‐ Mahatma Gandhi

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment