द्रोण की आत्मकथा : मनु शर्मा द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – आत्मकथा | Dron Ki Atmakatha : by Manu Sharma Hindi PDF Book – Autobiography (Atmakatha)

Book Nameमनु शर्मा / Manu Sharma
Author
Category, , , ,
Language
Pages 348
Quality Good
Size 171 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : क्या कह कहूं कि सत्तर पार कर चुका हूँ ? बालों में हिमराशि की श्वेतता बिखर गयी है। शरीर चर्म पर अश्विन में मेघों जैसी सिकुड़न आ गयी है। झुर्रियों से भरी आकृति पर अनुभव के भार से धंसी आँखें एक लम्बा इतिहास देख चुकी है। एक ऐसा इतिहास, जिसके ऊबड़-खाबड़ मार्ग पर मेरी वृद्ध स्मृति का दौड़ना तो दूर रहा, वह सरलता से चल भी नहीं पाती…………..

Pustak Ka Vivaran : Kya Kah kahoon ki sattar Par kar chuka hoon ? Balon mein Himarashi kee shvetata bikhar gayi hai. Shareer charm par ashvin mein meghon jaisi Sikudan aa gayi hai. Jhurriyon se bhari aakrti par Anubhav ke bhar se dhansee onkhen ek lamba itihas dekh chuki hai. Ek aisa Itihas, jisake oobad-khabad Marg par meri vrddh smrti ka daudana to door raha, vah saralata se chal bhee nahin Pati………

Description about eBook : Should I say that I have crossed seventy? The whiteness of snow in the hair is shattered. There is a cloudy wrinkle in Ashwin on the body skin. With the weight of experience on the wrinkled figure, the eyes have seen a long history. A history, which has kept running away from my old memory on the bumpy route, it cannot even walk smoothly ……

“जो पुस्तकें आपको सबसे ज्यादा सोचने के लिये मजबूर करती हैं वही आपकी सबसे ज्यादा सहायता करती हैं।” थियोडोर पार्कर
“The books that help you the most are those which make you think the most.” Theodore Parker

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment