बेंजामिन फ्रैंकलिन की आत्मकथा : बेंजामिन फ्रैंकलिन द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – आत्मकथा | Benjamin Franklin Ki Atmakatha : by Benjamin Franklin Hindi PDF Book – Autobiography (Atmakatha)

Book Nameबेंजामिन फ्रैंकलिन की आत्मकथा / Benjamin Franklin Ki Atmakatha
Author
Category, , , ,
Language
Pages 65
Quality Good
Size 966 KB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : मेरे सभी बड़े भाइयों को अलग-अलग व्यवसायों में बतौर प्रशिक्षु संलग्न किया गया था। आठ वर्ष की उम्र में मुझे ग्रामर स्कूल में दाखिल कराया गया। मेरे पिता की इच्छा थी कि मैं चर्च में अपनी सेवाएँ दूँ। पढ़ने की मेरी तीव्र तत्परता एवं अपने मित्रों के मेरे होनहार होने के मशविरों के कारण मेरे पिता इस उद्देश्य के लिए प्रोत्साहित हुए थे…….

Pustak Ka Vivaran : Mere Sabhi bade Bhaiyon ko Alag-Alag Vyavasayon mein bataur prashikshu sanlagn kiya gaya tha. Aath varsh ki umra mein mujhe Grammer school mein dakhil karaya gaya. Mere Pita ki ichchha thi ki main charch mein apni sevaen doon. Padhane ki meri teevra Tatparata evan apne mitron ke mere honhar hone ke mashaviron ke karan mere Pita is uddeshy ke liye protsahit huye the……..

Description about eBook : All my elder brothers were engaged as apprentices in different trades. At the age of eight, I was enrolled in grammar school. My father wanted me to serve in the church. My father was encouraged for this purpose by my intense readiness to read and my friends’ advice to me as promising……….

“भारी सफलता सर्वोत्तम प्रतिशोध है।” ‐ फ्रेंक सिनात्रा
“The best revenge is massive success.” ‐ Frank Sinatra

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment