बीच की दरार : से० रा० यात्री द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – उपन्यास | Beech Ki Darar : by Se. Ra. Yatri Hindi PDF Book – Novel (Upanyas)

बीच की दरार : से० रा० यात्री द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - उपन्यास | Beech Ki Darar : by Se. Ra. Yatri Hindi PDF Book - Novel (Upanyas)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name बीच की दरार / Beech Ki Darar
Author
Category, , , ,
Language
Pages 114
Quality Good
Size 3 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : अभी नागपाल ने मरी तरफ अपनी आँखें पूरी तरह उठाई भी नहीं थीं कि उनका पर्सनल सेक्रेटरी’ टेलीफ़ोन का पूरा यंत्र उठाकर चला आया और बोला “सर बर्लिन से मिस्टर “विल्सन हुस्टर’ आपसे बातें करना माँगते हैं ।” सेक्रेंटटी की बात सुनकर मिस्टर नागपाल का गम्भीर चेहरा भर भी गम्भीर हो गया। उन्होंने सेक्रेंटरी के हाथ से रिसीवर……..

Pustak Ka Vivaran : Abhi Nagpal ne meri taraph apani Aankhen poori tarah uthai bhi nahin theen ki unaka parsonal secretary Teliphon ka poora yantr uthakar chala aaya aur bola “sar barlin se mistar “vilsan hustar aapase baten karana mangate hain .” Secrentarey ki bat sunakar mistar nagpal ka gambheer chehara bhar bhi Gambheer ho gaya. Unhonne secrentary ke hath se Recever……….

Description about eBook : Now Nagpal had not even raised his eyes on me that his personal secretary came and lifted the telephone instrument and said, “Mr. Berlin” Mr. Wilson Wilson asks you to talk to Sir Berlin. On hearing the secretory, the serious face of Mr. Nagpal also became serious. He handed over the receiver to the secondary……….

“जब किसी व्यक्ति द्वारा अपने लक्ष्य को इतनी गहराई से चाहा जाता है कि वह उसके लिए अपना सब कुछ दांव पर लगाने के लिए तैयार होता है, तो उसका जीतना सुनिश्चित होता है।” ‐ नेपोलियन हिल
“When a man really desires a thing so deeply that he is willing to stake his entire future on a single turn of the wheel in order to get it, he is sure to win.” ‐ Napoleon Hill

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment