हिंदी संस्कृत मराठी मन्त्र विशेष

भद्रलोक का नीड़ / Bhadralok Ka Need

भद्रलोक का नीड़ : तुर्गनेव द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - उपन्यास | Bhadralok Ka Need : by Turgenev Hindi PDF Book - Novel (Upanyas)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name भद्रलोक का नीड़ / Bhadralok Ka Need
Author
Category, , , ,
Language
Pages 262
Quality Good
Size 7.4 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : गुजार दिये | मेरिया उससे किसी कदर दबती थी | उसकी नाक तीखी, बाल काले, और इस बुढ़ापे में भी आंखों की ज्योति तेज थी | बुढ़िया का नाम मार्फा तिमोफेवना था | वह अब भी कमर सीधी करके सगर्व ओर सजीब गति से चलती थी और अपनी गूँजदार आवाज में तेज तेज बोलती थी; लेकिन बात स्पष्ट करती थी । वह हमेशा एक सफेद टोपी और एक सफेद जाकेट पहनती थी | “क्या बात है……

Pustak Ka Vivaran : Gujar diye.  Meriya usase kisi kadar dabati thi. Usku nak teekhi, bal kale, aur is budhape mein bhi Aankhon ki jyoti tej thi . Budhiya ka aam marpha timophevana tha . Vah ab bhi kamar seedhi karake sagarv or sajeeb gati se chalati thi aur apani goonjdar aavaj mein tej tej bolati thi; lekin bat spasht karati thi. Vah hamesha ek saphed topee aur ek saphed jacket pahanati thee. “Kya baat hai……..

Description about eBook : passed. Marya used to press on him somehow. His nose was sharp, his hair black, and his eyes were bright even in this old age. The old lady’s name was Marfa Timofeevna. She still walked proudly and gracefully with her back straight, and spoke loudly in her resonant voice; But it was clear. She always wore a white cap and a white jacket. “Wow……..

“बंदरगाह में खड़ा जलयान सुरक्षित होता है। जलयान वहां खड़े रहने के लिए नहीं बने होते हैं।” थामस एक्किनास
“A ship in harbor is safe . . . but that is not what ships are for.” Thomas Aquinas

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Leave a Comment