चौथी का जोड़ा : इस्मत चुगताई द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – उपन्यास | Chauthi Ka Joda : by Ismat Chugtai Hindi PDF Book – Novel (Upanyas)

Book Nameचौथी का जोड़ा / Chauthi Ka Joda
Author
Category, , , ,
Pages 15
Quality Good
Size 351 KB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : पर आज तो गजी क़ा टुकडा बहुत ही छोटा था और सबको यकीन था कि आज तो कुबरा की माँ की नाप-तोल हार जाएगी। तभी तो सब दम साधे उनका मुँह ताक रही थीं। कुबरा की माँ के इसतक काल चेहरे पर फ़िक्र की कोई शक्ल न थी। चार गज़ गज़ी के टुकडे क़ो वो निगाहों से ब्योत रही थीं।लाल टूल का अक्स उनके नीला ज़र्द……..

Pustak Ka Vivaran : Par Aaj to Gazi Ka Tukada bahut hi chhota tha aur Sabko yakin tha ki Aaj to Kubara ki man ki nap-tol har jayegi. Tabhi to sab dam sadhai unaka munh tak rahi theen. kubara ki man ke pur-Istakqal chehare par fikr ki koi shakl na thi. Char Gaz Gazi ke tukade qo vo Nigahon se byont rahi theen. Lal Tool ka Aks unke Neela zard…….

Description about eBook : But today the piece of Gazi was very small and everyone was sure that today Kubra’s mother would lose her weight. That’s when everyone was staring at his face. There was no trace of concern on the face of Kubra’s mother. She was looking at a piece of four yards of Gazi. The red tool refers to their blue gold…….

“परिवर्तन को जो ठुकरा देता है वह क्षय का निर्माता है। केवलमात्र मानव व्यवस्था जो प्रगति से विमुख है वह है कब्रगाह।” ‐ हैरल्ड विल्सन
“He who rejects change is the architect of decay. The only human institution which rejects progress is the cemetery.” ‐ Harold Wilson

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment