दादा-काॅॅमरेड : यशपाल द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Dada-Komred : by Yashpal Hindi PDF Book – Social (Samajik)

दादा-काॅॅमरेड : यशपाल द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - सामाजिक | Dada-Komred : by Yashpal Hindi PDF Book - Social (Samajik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name दादा-काॅॅमरेड / Dada-Komred
Author
Category, ,
Language
Pages 237
Quality Good
Size 12.7 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : बिजली बुझा देने के लिए यशोदा ने बटन पर दुबारा हाथ रखा ही था की बाहर, मकान की कुर्सी की सीढ़ी पर , दो चुस्त कदमों की आहट और साथ ही किवाड़ पर थाप सुनाई दी | आने वाले को दरवाजे और खिड़की के काँच से रोशनी दिखाई दे ही गई थी | खोले बिना चारा न था | अलसाए से खिन्न-स्वर में यशोदा ने पछा – “कौन है ?” उत्तर में फिर थाप …….

Pustak Ka Vivaran : Bijali Bujha dene ke liye yashoda ne batan par dubara Hath rakha hi tha kee bahar , makan ki kursi ki seedhe par , do chust kadamon ki Ahat aur sath hi kivad par thap sunayi di. Ane vale ko daravaje aur khidaki ke kanch se roshani dikhayi de hi gayi thi. Khole bina chara na tha. Alasae se khinn-svar mein yashoda ne poochha – kaun hai ? uttar mein phir thap………….

Description about eBook : In order to extinguish the power, Yashoda had put his hand on the button again, on the staircase of the house, on the stairs of two tight steps, as well as the sound on the wall. The incoming person had just seen the light from the door and window glass. There was no feed without opening. Yashoda, in a tone of sorrow, asked, “Who is that?”……………

“मैंने यह पाया है कि यदि आप जिंदगी को प्यार करते हैं, तो जिंदगी भी आपको प्यार करती है।” ‐ आर्थर रूबिन्स्टीन
“I have found that if you love life, life will love you back.” ‐ Arthur Rubinstein

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment