दमदार आदमी : श्री जी० पी० श्रीवास्तव द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – नाटक | Damdar Aadami : by Shri G. P. Shrivastav Hindi PDF Book – Drama (Natak)

दमदार आदमी : श्री जी० पी० श्रीवास्तव द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - नाटक | Damdar Aadami : by Shri G. P. Shrivastav Hindi PDF Book - Drama (Natak)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name दमदार आदमी / Damdar Aadami
Author
Category, ,
Language
Pages 194
Quality Good
Size 3.8 MB
Download Status Available

दमदार आदमी का संछिप्त विवरण : निपोड़० – अरे | यह तो बड़े काम की चीज है। अगर यह न होती तो हम भी तुम्हारी तरह मामूली आदमी होते। फिर हममें और तुममें फर्क ही क्या होता | जब कभी हम ऐसे बढ़े आदमियों कों ओहदा ओर अख्तियारात मिलते हैं तो इस दुम में बिच्छू की तरह एक डंक निकल आता है, जो सिवाय नुकसान के फायदा पहुँचाना तो जानता ही नहीं……

Damdar Aadami PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Nipoda – Are. Yah to bade kam ki cheej hai. Agar yah na hoti to ham bhi tumhari tarah mamuli Admi hote. Fir Hamamen aur tumamen phark hi kya hota. Jab kabhi ham aise badhe Admiyon kon ohada or akhtiyarat milate hain to is dum mein bichchhu ki tarah ek dank nikal aata hai, jo sivay Nuksan ke Fayada pahunchana to janata hi nahin…….
Short Description of Damdar Aadami PDF Book : Nipod 0 – Hey. This is a very useful thing. If it had not been there, we would have been a modest man like you. Then what would be the difference between us and you? Whenever we meet the status of such grown men and we get a sting like a scorpion in this rump, who does not know except to benefit from the loss ……
“हर सुबह मैं पंद्रह मिनट अपने मस्तिष्क में प्रभु की भावनाओं को समाहित करता हूं; और इस प्रकार से चिंता के लिए इसमें कोई स्थान रिक्त नहीं रहता है।” ‐ हॉवर्ड शैंडलर क्रिस्टी
“Every morning I spend fifteen minutes filling my mind full of God; and so there’s no room left for worry thoughts.” ‐ Howard Chandler Christy

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment