हिंदी संस्कृत मराठी मन्त्र विशेष

धर्म के दशलक्षण / Dharm Ke Dash Lakshan

धर्म के दशलक्षण : डॉ० हुकमचन्द भारिल्ल द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - सामाजिक | Dharm Ke Dash Lakshan : by Dr. Hukamchand Bharill Hindi PDF Book - Social (Samajik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name धर्म के दशलक्षण / Dharm Ke Dash Lakshan
Author
Category,
Language
Pages 194
Quality Good
Size 8 MB
Download Status Available

धर्म के दशलक्षण का संछिप्त विवरण : पर्वो की चर्चा जब भी चलती है तब-तब उनका संबंध प्रायः खाने-पीने और खेलने से जोड़ा जाता है-जैसे रक्षाबंधन के दिन खीर और लड्डू, खाये जाते हैं, भोरे खेले जाते हैं, राखी बांधी जाती है; होली के दिन अमुक पकवान खाये जाते हैं, र॑ग डाला जाता है, होली जलाई जाती है; दीपावली के दिन पटाके चलाये जाते हैं , दीपक जलायेजाते हैं, लड्डू चढ़ाये जाते हैं एवं अमुक पकवान खाये जाते हैं……

Dharm Ke Dash Lakshan PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Parvo ki Charcha jab bhi chalati hai tab-tab unaka sambandh prayah khane-peene aur khelane se joda jata hai-jaise Rakshabandhan ke din kheer aur laddoo, khaye jate hain, bhore khele jate hain, Rakhi bandhi jati hai; holi ke din amuk pakvan khaye jate hain, rang dala jata hai, holi jalaee jati hai; Dipavali ke din patake chalaye jate hain , deepak jalayejate hain, ladd. Chadhaye jate hain evan amuk pakavan khaye jate hain…….
Short Description of Dharm Ke Dash Lakshan PDF Book : Whenever the discussion of the festival goes on, then their relation is often associated with eating and drinking – like kheer and laddus are eaten on the day of Rakshabandhan, the Bhore are played, the Rakhi is tied; Holi dishes are eaten on the day of Holi, color is added, Holi is lit; Fireworks are lit on Deepawali, lamps are lit, Laddas are lit. They are offered and so many dishes are eaten…….
“जीवन में मानव का मुख्य कार्य स्वयं का सृजन करना है, वह बनना जिसकी उसमें संभाव्यता है। उसके प्रयास का सबसे महत्त्वपूर्ण उत्पाद उसका स्वयं का व्यक्तित्व होता है।” एरिक फ्राम्म
“Man’s main task in life is to give birth to himself, to become what he potentially is. The most important product of his effort is his own personality.” Erich Fromm

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Leave a Comment