धर्म शास्त्र हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक | Dharm Shahtra Hindi PDF Book

धर्म शास्त्र हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक | Dharm Shahtra Hindi PDF Book
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name धर्म शास्त्र / Dharm Shahtra
Author
Category, ,
Language
Pages 1356
Quality Good
Size 100 MB
Download Status Available

धर्म शास्त्र का संछिप्त विवरण : आदि में परमेश्वर ने आकाश और पृथिवी को सिरना और पृथ्वी सूनी और सुनसान पड़ी थी और जल के ऊपर अँधियारा था और परमेश्वर का आत्मा जल के ऊपर ऊपर मंडलाता था तब परमेश्वर ने कहा उजियाला सो उजियाला हो गया और परमेशवर ने उजियाले को देखा की अच्छा है और परमेश्वर ने ‘उजियाले और अंधियारे को अलग अलग किया…………………

Dharm Shahtra PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : aadi mein parameshvar ne aakaash aur prthivee ko sirana aur prthvee soonee aur sunasaan padee thee aur jal ke oopar andhiyaara tha aur parameshvar ka aatma jal ke oopar oopar mandalaata tha tab parameshvar ne kaha ujiyaala so ujiyaala ho gaya aur parameshavar ne ujiyaale ko dekha kee achchha hai aur parameshvar ne ujiyaale aur andhiyaare ko alag alag kiya………….
Short Description of Dharm Shahtra PDF Book : In the beginning, God, the heavens and the earthquake, and the earth were dry and deserted, and there was darkness over the water, and the Spirit of God was above the water, then God said that the light became light and God saw the light that is good. And God separated the light and the darkness…………..
“कहे और लिखे गए शब्दों में सबसे दुखद हैं – ‘ऐसा हो सकता था’।” ‐ जॉन ग्रीनलीफ व्हिटियर
“Of all the words of tongue and pen – the saddest are these -’It might have been’.” ‐ John Greenleaf Whittier

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment