ध्यान कैसे करें : डॉ. विक्रम जी महाराज द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Dhyan Kaise Karen : by Dr. Vikram Ji Maharaj Hindi PDF Book – Social (Samajik)

Book Nameध्यान कैसे करें / Dhyan Kaise Karen
Author
Category, , , , , ,
Language
Pages 107
Quality Good
Size 30 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : सन्यास के बाद उनका नाम संबंध आदि समाप्त हो जाता है। वे गेरूया वस्त्र धाराण कर लेते हैं। गेरूया वस्त्र के साथ उनका दुनिया का मायावी जीवन जल कर राख हो जाता है। जीवन समाधि के बाद भी और मृत्यु के बाद भी चलता रहता है। जब तक निर्वाण या मोक्ष नहीं हो जाता…

Pustak Ka Vivaran : San‍yas ke Bad unaka nam Sambandh Aadi Samapt ho jata hai. Ve geruya vastr dharan kar lete hain. Geruya vastr ke sath unaka duniya ka mayavi Jivan jal kar Rakh ho jata hai. Jeevan Samadhi ke bad bhi aur mrtyu ke bad bhi chalata rahata hai. Jab tak nirvan ya moksh nahin ho jata…….

Description about eBook : After renunciation, their name relationship etc. ends. They wear ocher clothes. With ocher clothes, their elusive life of the world is burnt to ashes. Life continues after samadhi and even after death. Until Nirvana or Moksha is achieved………

One Quotation / एक उद्धरण “बुद्धिमान व्यक्तियों की प्रंशसा की जाती है; धनवान व्यक्तियों से ईर्ष्या की जाती है; बलशाली व्यक्तियों से डरा जाता है, लेकिन विश्वास केवल चरित्रवान व्यक्तियों पर ही किया जाता है।” – अल्फ्रेड एडलर
“Men of genius are admired, men of wealth are envied, men of power are feared; but only men of character are trusted.” – Alfred Adler

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment