क्या करें क्या न करें : राजेन्द्र कुमार धवन द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – आध्यात्मिक | Kya Karen Kya Na Karen : by Rajendra Kumar Dhavan Hindi PDF Book – Spiritual (Adhyatmik)

क्या करें क्या न करें : राजेन्द्र कुमार धवन द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - आध्यात्मिक | Kya Karen Kya Na Karen : by Rajendra Kumar Dhavan Hindi PDF Book - Spiritual (Adhyatmik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name क्या करें क्या न करें / Kya Karen Kya Na Karen
Author
Category, ,
Language
Pages 132
Quality Good
Size 7.4 MB
Download Status Available

क्या करें क्या न करें का संछिप्त विवरण : शास्त्र अथाह समुद्र की भांति है। जो शास्त्र उपलब्ध हुए, उनका अवलोकन करके अपनी सीमित सामर्थ्य, समझ, योग्यता और समय के अनुसार प्रस्तुत पुस्तक की रचना की गयी है। जिन बातों की जानकारी लोगों को बहुत कम है, उन बातों को मुख्यता से प्रकाश में लेन की चेष्टा की गयी है.यधपि पाठकों को कुछ बातें वर्तमान समय में अव्यवहारिक प्रतीत हो सकती है …….

Kya Karen Kya Na KarenPDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Shastr Athah samudr kee bhanti hai. Jo Shastr upalabdh huye, unaka avalokan karake apani seemit samarthy, samajh, yogyata aur samay ke anusar prastut pustak kee rachana kee gayi hai. Jin baton kee janakaree logon ko bahut kam hai, un baton ko mukhyata se prakash mein len kee cheshta kee gayi hai. Yadhapi pathakon ko kuchh baten vartaman samay mein avyavaharik prateet ho sakati hai…………
Short Description of Kya Karen Kya Na Karen PDF Book : The scripture is like the deep sea. The books presented according to their limited ability, understanding, ability and time have been created after observing the scriptures which were available. Things which people have little information about, have been tried to light the lane in light. However, some things may seem impractical at the present time to the readers………..
“रोटी या सुरा या लिबास की तरह कला भी मनुष्य की एक बुनियादी ज़रूरत है। उसका पेट जिस तरह से खाना मांगता है, वैसे ही उसकी आत्मा को भी कला की भूख सताती है।” ‐ इरविंग स्टोन
“Art’s a staple. Like bread or wine or a warm coat in winter. Those who think it is a luxury have only a fragment of a mind. Man’s spirit grows hungry for art in the same way his stomach growls for food.” ‐ Irving Stone

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment