दो आब : शमशेर बहादुर सिंह द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – साहित्य | Do Aab : by Shamsher Bahadur Singh Hindi PDF Book – Literature (Sahitya)

दो आब : शमशेर बहादुर सिंह द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - साहित्य | Do Aab : by Shamsher Bahadur Singh Hindi PDF Book - Literature (Sahitya)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name दो आब  / Do Aab
Author
Category, , , , ,
Language
Pages 172
Quality Bad
Size 12 MB
Download Status Available

दो आब  पीडीऍफ़ पुस्तक का संछिप्त विवरण :  मेहनत करने की ठानकर कुछ छोग उठते हैं, अपने को वक्‍त के तकाज़ों पर ढालते हैं।
समाज की रोज़ ज़िन्दगी के हर मोड़ पर बह अपने उपयोग और अपनी इंसानियत का सबूत देते हैं। पर कुछ
काहिल बावजूद , सन्देहघारी भी हैं, थी स्वार्थी हैं, चाहते हैं बल खाने को पेट भर मिलता रहे, मेहनत की
सख्तियाँ उठाने की उनमें हिम्मत नहीं…

Do Aab PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Mehanat karane kee Thankar kuchh chhog uthate hain, apane ko vakt ke takazon par dhalate hain. Samaj kee Roz Zindagi ke har mod par bah apane upayog aur apani insaniyat ka saboot dete hain. Par kuchh kahil bavajood , sandehaghari bhee hain, tho svarthee hain, chahate hain bal khane ko pet bhar milata rahe, mehanat kee sakhtiyan uthane kee unamen himmat nahin…………

Short Description of Do Aab Hindi PDF Book  : Determined to work hard, some people get up, they adjust themselves to the demands of time. At every turn of society’s daily life, they give evidence of their use and their humanity. But despite some curiosity, there are also skeptics, a little selfish, they want to be full of strength to eat, they do not have the courage to take hard work……

 

“आपकी उपलब्धियों का निर्धारण आपकी प्रवृति से नहीं अपितु आपके रवैय्ये से होता है।” ‐ जिग जिगलर
“It is your attitude and not your aptitude that determines your altitude.” ‐ Zig Zigler

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment