बात बोलेगी : शमशेर बहादुर सिंह द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कविता | Bat Bolegi : by Shamsher Bahadur Singh Hindi PDF Book – Poetry (Kavita)

बात बोलेगी : शमशेर बहादुर सिंह द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - कविता | Bat Bolegi : by Shamsher Bahadur Singh Hindi PDF Book - Poetry (Kavita)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name बात बोलेगी / Bat Bolegi
Author
Category, , , , ,
Language
Pages 130
Quality Good
Size 671 KB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : दुःख नहीं मिटा घिरा और घुमड़ा आकाश। फिर बरसा दिन भर खुला नहीं। बही हवाएं भी बुँदियाँ भर-भर। झोके भी हृदय उड़ाते हुए चले। पर खुला नहीं राग। सफल नहीं हुआ, आह मन का अनुवाद ! झूमे वन के वन हर-हर कर। नद बहे घन घहरे ‘लहरे मन-उद्यान। सीझ गये पत्थर, कठिन किन्तु कवि-उर-प्रस्तर था। जो उष्ण रहा तपता कौन वह सावन की घड़ी होगी…….

Pustak Ka Vivaran : Duhkh nahin mita ghira aur ghumada Aakash. Phir barasa din bhar khula nahin. Bahi havaen bhee bundiyan bhar-bhar. Jhoke bhee hrday udate huye chale. Par khula nahin rag. Saphal nahin hua, Aah man ka anuvad ! Jhoome van ke van har-har kar. Nad bahe ghan ghahare lahare man-udyan. Seejh gaye patthar, kathin kintu kavi-ur-prastar tha. Jo ushn raha tapata kaun vah savan kee ghadi hogi………..

Description about eBook : The sorrow did not erase the surrounded and wandering sky. Then the rain did not open all day. Book winds also filled the drops. The shove also went on blowing the heart. But the melody did not open. Did not succeed, ah translation of mind! The forest har har har kar Nade behe cube gahre ‘lehre mind-garden. The stone was hardened, but the poet-ur-stone was. Who will be hot, who will be hot………..

“जब आप शहद की खोज में जाते हैं, तो आपको मधुमक्खियों द्वारा काटे जाने की संभावना को स्वीकर कर लेना चाहिए। (सफलता के मार्ग में कठिनाईयों का आना स्वभाविक ही है)” ‐ जोसेफ जोबर्ट
“When you go in search of honey you must expect to be stung by bees.” ‐ Joseph Joubert

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment