दो बाल नाटक : प्रताप सहगल द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – नाटक | Do Bal Natak : by Pratap Sehgal Hindi PDF Book – Drama (Natak)

दो बाल नाटक : प्रताप सहगल द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - नाटक | Do Bal Natak : by Pratap Sehgal Hindi PDF Book - Drama (Natak)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name दो बाल नाटक / Do Bal Natak
Author
Category, , , , ,
Language
Pages 38
Quality Good
Size 2.4 MB
Download Status Available

दो बाल नाटक का संछिप्त विवरण : सभी बच्चे दो टोलियों में बँट जाते हैं। एक टोली पहले बच्चे के और दूसरी टोली दूसरे बच्चे के पक्ष में खड़ी हो जाती है। सभी के हाथों में लाठी, बल्लम; छुरियां और कट्टे आ जाते हैं | कुछ बच्चों के सिर पर टोपी; कुछ बच्चों के सिरपर साफा, और दंगल शुरू हो जाता है। तभी वहां एक अधेड़ उम्र का आदमी गुज़रता है। वह थोड़ी देर खड़ा होकर…

Do Bal Natak PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Sabhi Bachche do toliyon mein bant jate hain. Ek toli pahale bachche ke aur doosari toli doosare bachche ke paksh mein khadi ho jati hai. Sabhi ke hathon mein lathi, ballam; chhuriyan aur katte aa jate hain . Kuchh Bachchon ke sir par topi; kuchh bachchon ke sirpar sapha, aur dangal shuru ho jata hai. Tabhi vahan ek Adhed umr ka Aadami guzarata hai. Vah thodi der khada hokar…….
Short Description of Do Bal Natak PDF Book : All children are divided into two groups. One group stands on the side of the first child and the second group on the other child’s side. Sticks in all hands, Ballam; Knives and bags come. Cap on some children’s heads; Some children head on, and riots begin. That is when a middle-aged man passes by there. He stood for a while ………
“फूल की पंखुड़ियों को तोड़ कर आप उसकी सुंदरता नहीं बटोर सकते।” रवीन्द्रनाथ टैगोर
“By plucking her petals, you do not gather the beauty of the flower.” Rabindranath Tagore

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment