दुलारे – दोहावली : श्री दुलारेलाल भार्गव द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – काव्य | Dulare – Dohavali : by Shri Dulare Lal Bhargav Hindi PDF Book – Poetry (Kavya)

Book Nameदुलारे - दोहावली / Dulare - Dohavali
Author
Category, , , , ,
Language
Pages 196
Quality Good
Size 20 MB
Download Status Available

दुलारे – दोहावली पीडीऍफ़ पुस्तक का संछिप्त विवरण : दुलारे-दोहावली की भाषा प्रौढ़ साहित्यिक ब्रजभाषा है | स्मरण रहे, प्राचीन काल हो से साहित्यिक ब्रजभाषा में अत्यन्त प्रचलित फ़ारसी, बुन्देलखण्ड, अवधी और संस्कृत के तत्सम शब्दों का थोड़ा-बहुत प्रयोग होता रहा है | ब्रजभाषा के किसी भी कवि की भाषा का बारीकी से अध्ययन करने पर उपर्युक्त बात का पता सहज ही चल सकता है……..

Dulare – Dohavali PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Dulare-Dohavali kee bhasha praudh sahityik brajabhasha hai. Smaran rahe, Pracheen kal ho se sahityik brajabhasha mein atyant prachalit farasi, bundelakhand, avadhi aur sanskrt ke tatsam shabdon ka thoda-bahut prayog hota raha hai. Brajabhasha ke kisi bhi kavi kee bhasha ka bareeki se adhyayan karane par uparyukt bat ka pata sahaj hee chal sakata hai…………

Short Description of Dulare – Dohavali Hindi PDF Book : The language of dulare-dhawlavi is an adult literary language. Remember, since ancient times, the use of similar words of the most popular Persian, Bundelkhand, Awadhi and Sanskrit in literary language is being used quite a bit. The study of the language of any poet in Brajbhasha can be easily addressed………………

“हम अपने कार्यों के परिणाम का निर्णय करने वाले कौन हैं? यह तो भगवान का कार्यक्षेत्र है। हम तो एकमात्र कर्म करने के लिए उत्तरदायी हैं।” ‐ गीता
“Who are we to decide: what will be the outcome of our actions? It is God’s domain. We are just simply responsible for the actions.” ‐ Geeta

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment