जीवन का सद्व्यय : श्री दुलारेलाल भार्गव द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Jeewan Ka Sadvyay : by Shri Dulare Lal Bhargav Hindi PDF Book – Social (Samajik)

जीवन का सद्व्यय : श्री दुलारेलाल भार्गव द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - सामाजिक | Jeewan Ka Sadvyay : by Shri Dulare Lal Bhargav Hindi PDF Book - Social (Samajik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name जीवन का सद्व्यय / Jeewan Ka Sadvyay
Author
Category,
Language
Pages 164
Quality Good
Size 9 MB
Download Status Available

जीवन का सद्व्यय का संछिप्त विवरण : नौकर-चाकर फ़िजूल-खर्चे एवं गुस्ताख और लापरवाह हो जाते हैं। वह विनाशोन्मुख हो जाता हैं; अपनी आँखों से उस बिनाश को देखता, कानों से उसका शब्द सुनता। दुष्परिणाम को समझता और उससे बचने की इच्छा भी करता है; कितु निश्चय नहीं कर पाता | अंत को विनाश, एक तूफान की तरह, उस पर कपट पड़ता है, और लज्जा तथा पश्चात्ताप मसान तक उसका पीछा नहीं छोड़ते………

Jeewan Ka Sadvyay PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Naukar-chakar fijool-Kharche evan gustakh aur laparvah ho jate hain. Vah Vinashonmukh ho jata hain; apani Ankhon se us binash ko dekhata, kanon se usaka shabd sunata. Dushparinam ko samajhata aur usase bachane ki ichchha bhi karata hai; kintu nishchay nahin kar pata. Ant ko vinash, ek toophan ki tarah, us par kapat padata hai, aur lajja tatha pashchattap masan tak usaka peechha nahin chhodate……..
Short Description of Jeewan Ka Sadvyay PDF Book : The servants become extravagant and reckless and careless. He becomes devastated; Looked at the enamel with his own eyes, listening to his words with his ears. Understands the ill effects and wishes to avoid it; But cannot decide. Destruction to the end, like a hurricane, has been lynched on it, and shame and remorse do not leave it until the end…….
“एक चीज जिससे डरा जाना चाहिए वह डर है।” ‐ फ्रेंकलिन डी. रुज़वेल्ट
“The only thing we have to fear is fear itself.” ‐ Franklin D. Roosevelt

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment