हिंदी संस्कृत मराठी ब्लॉग

ग़दर / Gadar

ग़दर : ऋषभचरण जैन द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - उपन्यास | Gadar : by Rishabh Charan Jain Hindi PDF Book - Novel (Upanyas)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name ग़दर / Gadar
Author
Category, , , ,
Language
Pages 144
Quality Good
Size 4.4 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : एक बरस के बाद बेचारों को यह हर्ष का दिन नसीब होता है। सब लोग सुख में निमग्न थे । इतने में यह नादान लड़की चहाँ आई, और उनमें से दस-बारह को अपने पास बुलाया, और पालकी बाहर निकाल लाने का हुक्म दिया। बेचारों को बुरा तो लगा, पर बिना एक शब्द-कहे पालकी निकाल लाये। तब इस लड़की ने कहा ‘हम पालकी में………

Pustak Ka Vivaran : Ek Baras ke bad becharon ko yah harsh ka din naseeb hota hai. Sab log sukh mein nimagn the . Itane mein yah nadan ladaki chahan aayi, aur unamen se das-barah ko apane pas bulaya, aur palaki bahar nikal lane ka hukm diya. Becharon ko bura to laga, par bina ek shabd-kahe palaki nikal laye. tab is ladki ne kaha ham palaki mein………..

Description about eBook : After one year, this day of happiness is destined to the sick. Everyone was engrossed in happiness. At this time, this innocent girl came, and summoned ten-twelve of them to her, and ordered her to take out the palanquin. Unfortunate people felt bad, but brought out the palanquin without saying a word. Then this girl said, ‘We are in the palanquin ………..

“जोख़िम न उठाना ही एक नीति है जिसकी विफलता निश्चित है।” ‐ मार्क ज़करबर्ग
“The only strategy that is guaranteed to fail is not taking risks.” ‐ Mark Zuckerberg

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Leave a Comment