गरीबदास जी की बानी : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – जीवनी | Garib Das Ji Ki Bani : Hindi PDF Book – Biography (Jeevani)

गरीबदास जी की बानी : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - जीवनी | Garib Das Ji Ki Bani : Hindi PDF Book - Biography (Jeevani)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name गरीबदास जी की बानी / Garib Das Ji Ki Bani
Category, , ,
Language
Pages 186
Quality Good
Size 63.3 MB
Download Status Available

गरीबदास जी की बानी पीडीऍफ़ पुस्तक का संछिप्त विवरण : महात्मा गरीबदास जी मौजा छुड़ानी तहसील झज्जर जिला रोहतक (पंजाब) में बेसाख सुदी पूनो सम्बत १७७४ बिक्रमी मुताबिक ईसवि सन १७९१७ को प्रकट हुए | वह जाति के जाट धनखड़े या दलाल गोत्र के थे और पेशा जमीदारी का करते थे अपने घर मौजा छुड़ानी ही में सत्संग खड़ा करके जीवों को
चेताते रहे और सारी उम्र गृहस्थ में रहकर ३६ वर्ष की उम्र में……….

Garib Das Ji Ki Bani PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Mahatma Garibadas ji Mauja Chhudani tahasil Jhajjar jila Rohatak (Panjab) mein baisakh sudi puno sambat 1774 bikrami mutabik eesavi san 1717 ko prakat hue. Vah jati ke jaat dhankhade ya dalal gotr ke the aur pesha jamidari ka karte the apne ghar mauja chhudani hi mein satsang khada karke jeevon ko chetate rahe aur sari umr grhasth mein rahakar 36 varsh ki umr mei…………

Short Description of Garib Das Ji Ki Bani Hindi PDF Book : Mahatma Giridas Ji Mauja Chhodani Tahasil Jhajjar District Rohtak (Punjab), Bisakh Sudi Poono in 1774 according to Bikrami appeared on 1717. He was a caste jatdhan or a broker of caste and used to do profession, he used to keep his satsang in his house, and kept his consciousness alive, and living in the entire house, at the age of 36………….

 

“जो तुच्छ मामलों में सत्य के साथ लापरवाह हो उस पर महत्त्वपूर्ण मामलों में ऐसा नहीं करने का भरोसा नहीं किया जा सकता है।” ‐ अल्बर्ट आइंसटीन
“Whoever is careless with the truth in small matters cannot be trusted with important matters.” ‐ Albert Einstein

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment