हास्य-रस : श्री जी. पी. श्रीवास्तव द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – साहित्य | Hasya-Ras : by G. P. Shrivastav Hindi PDF Book – Literature (Sahitya)

Book Nameहास्य-रस / Hasya-Ras
Author
Category, , ,
Pages 121
Quality Good
Size 5.6 MB
Download Status Available

हास्य-रस का संछिप्त विवरण : जानता हूँ कि सम्मान का यह अति गम्भीर बोझ जो मुझ पर अंधाधुंध लाद दिया गया है, उसे हल्का-फुल्का करने का दम मेरे धन्यवाद में नहीं है। फिर भी धन्यवाद ही की गला फाड़कर गोहार लगाते हुए आप सज्जनों कि हास्य-प्रिय कबी की मुक्त कंठ से प्रशंसा करता हूँ । क्योंकि हास्य का आधार…..

Hasya-Ras PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Janata hoon ki samman ka yah ati Gambheer bojh jo mujh par andhadhundh lad diya gaya hai, Use halka-phulka karane ka dam mere dhanyavad mein nahin hai. phir bhee dhanyavad hee kee gala phadakar gohar lagate huye aap sajjanon ki hasy-priy kavi ki mukt kanth se prashansa karata hoon. kyonki hasy ka aadhar………….
Short Description of Hasya-Ras PDF Book : I know that this very serious burden of honor that has been indiscriminately imposed on me is not in my thank you to lighten it. Yet thanks to the thundering of the throat, you admire the gentlemen of humorous poets, with the free voice of the poem. Because the basis of humor…………..
“एक अच्छी पुस्तक पढ़ने का पता तब चलता है जब उसका आखिरी पृष्ठ पलटते हुए आपका कुछ ऐसा लगे जैसे आपने एक मित्र को खो दिया।” ‐ पॉल स्वीनी
“You know you’ve read a good book when you turn the last page and feel a little as if you have lost a friend.” ‐ Paul Sweeney

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment