जीवन साहित्य : आचार्य विनोबा भावे द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Jivan Sahitya : by Acharya Vinoba Bhave Hindi PDF Book – Social (Samajik)

Book Nameजीवन साहित्य / Jivan Sahitya
Author
Category, ,
Language
Pages 459
Quality Good
Size 12 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : जन्माष्टमी के दिन मैंने बेलग्राम छोड़ा | बेलग्राम जेल से मेरा तबादला साबरमती जेल में हुआ था | बहुत दिनों में जो किताब नहीं मिल रही थी वह हाथ आ जाने से गेटे के जीवनकाल से परिचय प्राप्त करने में मैं लीन हो गया | स्टेशन पर कोई परिचित व्यक्ति नहीं मिला | लेकिन इससे मुझे तनिक भी आश्चर्य नहीं हुआ | एक तो मैं अचानक निकला था और दूसरे यह की सभी परिचित व्यक्ति जेल में ही थे……….

Pustak Ka Vivaran : Janmashtmi ke din Maine belgram Chhoda. belgram Jel se mera Tabadla sabarmati Jel me hua tha. bahut Dino me  jo Kitab nahi Mil Rahi Thi Vah hath aa jane se Gete ke jevankal se parichay Prapt karne me main leen ho gaya. Steshan par koi Parichit vyakti nahin mila. Lekin isase Mujhe Tanik Bhi Aashchary nahi hua. Ek to main Achanak Nikla tha aur Dusre yah ki Sabhi Parichit vykti Jel me hi the…………

Description about eBook : On Janmashtami, I left Belgaum. I was transferred from Belgaum Jail to Sabarmati Jail. The book which was not available in many days, I got absorbed in getting acquainted with Goethe’s life span. No acquaintance found at the station. But this did not surprise me at all. One I had suddenly turned out and the other person’s acquaintance was in jail……………….

“पूरा जीवन एक प्रयोग है। जितने अधिक प्रयोग आप करेंगे, उतना ही अच्छा।” ‐ राल्फ इमरसन
“All life is an experiment. The more experiments you make the better.” ‐ Ralph Waldo Emerson

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment