सर्वोदय के सेवकों से : आचार्य विनोबा भावे द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Sarvodaya Ke Sevako Se : by Acharya Vinoba Bhave Hindi PDF Book – Social (Samajik)

सर्वोदय के सेवकों से : आचार्य विनोबा भावे द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - सामाजिक | Sarvodaya Ke Sevako Se : by Acharya Vinoba Bhave Hindi PDF Book - Social(Samajik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name सर्वोदय के सेवकों से / Sarvodaya Ke Sevako Se
Author
Category, ,
Language
Pages 62
Quality Good
Size 2 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : गीता कहती है कि कर्मयोग का आरंम्अ ही वृद्धि के निश्चय के बिना नहीं हो सकता | सूर्य के अस्त के बाद असख्य तारिकाएं प्रकाशित होती है और उनका अपना – अपना अलग प्रकाश होता है | वैसे ही गाँधीजी के जाने के बाद लोगों ने किया,यह ठीक ही है, इसमें किसी को दोष देने की जरुरत नहीं है,लेकिन अब इतने से हमारा काम नहीं होने वाला है………..

Pustak Ka Vivaran : Geeta kahati hai ki karmayog ka aarambh hi vrdhi ke nishchay ke bina nahi ho sakta. sury ke ast ke bad asakhy tarikayen prakashit hoti hai aur unaka apna – apna alag prakash hota hai. vaise hi Gandhi ji ke jane ke bad logon ne kiya,yah thik hi hai, ismen kisi ko dosh dene ki jarurat nahin hai,lekin ab itane se hamara kam nahin hone vala hai…………

Description about eBook : Gita says that the beginning of Karma Yoga can not be done without the determination of growth. After sunrise, the non-existent stars are published and their own – their own separate light. Similarly, after the departure of Gandhiji, people did it, it is fine, there is no need to blame anyone, but now our work is not going to happen………………..

“एक बार काम शुरू कर लें तो असफलता का डर नहीं रखें और न ही काम को छोड़ें। निष्ठा से काम करने वाले ही सबसे सुखी हैं।” चाणक्य
“Once you start a working on something, don’t be afraid of failure and don’t abandon it. People who work sincerely are the happiest.” Chanakya

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment