कामकाजी चींटियाँ : कंचन बनर्जी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Kamkaji Cheetiyan : by Kanchan Bannerjee Hindi PDF Book – Social (Samajik)

Book Nameकामकाजी चींटियाँ / Kamkaji Cheetiyan
Author
Category, , ,
Language
Pages 16
Quality Good
Size 1295 KB
Download Status Available

कामकाजी चींटियाँ का संछिप्त विवरण : नमस्ते, मैं कतार चौथी जगह पर हूँ। क्या आप मुझे देख सकते हैं ? कदम ताल ! हम चुपचाप एक कतार में चलते है। मैंने एक बात सोची है। जल्दी-जल्दी चलने के लिए मुझे पहिए लगा लेने चाहिए। दूसरे जानवरों की तरह हम शोर नहीं मचाते। हम गंध से सब समझते है। एक गंध कहती है, “मेरे साथ चलो दावत खाने। दूसरी गंध बताती है, खतरा ! उधर मत जाओ……

Kamkaji Cheetiyan PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Namaste, main katar chauthi jagah par hoon. Kya Aap mujhe dekh sakate hain ? Kadam tal ! Ham chupachap ek katar mein chalate hai. Mainne ek bat sochi hai. Jaldi-jaldi chalane ke liye mujhe pahiye laga lene chahiye. Doosare janvaron kee tarah ham shor nahin machate. Ham Gandh se sab samajhate hai. Ek Gandh kahati hai, mere sath chalo davat khane. Doosaree gandh batati hai, khatara ! Udhar mat jayo…………
Short Description of Kamkaji Cheetiyan PDF Book : Although English and many other languages of Europe have a long-standing strong tradition of detective novels of various kinds, in Hindi and Urdu, this variety of novels did not find its place. Even today, if we take popular entertainment-oriented novels topped, then ‘Chalu’ or as they are commonly called……………….
“विकल्पों का न होना बुद्धि को बढ़िया ढंग से परिमार्जित कर देता है।” हेनरी ए किसिंगर, नोबेल विजेता व भूतपूर्व अमरीकी विदेश मंत्री
“The absence of alternatives clears the mind marvelously.” Henry A. Kissinger, Nobel Laureate and former American Foreign Minister

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment