खोजो मत पाओ : मुनि प्रणम्यसागर द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Khojo Mat Paao : by Muni Pranamya Sagar Hindi PDF Book – Social (Samajik)

Book Nameखोजो मत पाओ / Khojo Mat Paao
Author
Category, ,
Language
Pages 119
Quality Good
Size 900 KB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : सूत्र वाक्य छोटे होते है लेकिन उनका निर्माण बड़े अनुभवों के आधार पर होता है। महान पुरुषों ने जो कुछ भी कहा सूत्रात्मक ही कहा। सूत्र वाक्य की सूक्तियां कहलाती है। चिंतन से सूत्रों का अर्थ खुलता है। धर्म के अंतिम संचलक तीर्थ के प्रवर्तक, चौबीसवें तीर्थकर भगवान महावीर स्वामी ………

Pustak Ka Vivaran : Sutr vaky chhote hote hai lekin unaka Nirman bade anubhavon ke aadhar par hota hai. Mahan purushon ne jo kuchh bhee kaha sootratmak hee kaha. Sootr vaky kee sooktiyan kahalatee hai. Chintan se sootron ka arth khulata hai. Dharm ke antim sanchalak teerth ke pravartak, chaubeesaven teerthakar bhagavan mahavir svami…………

Description about eBook : Formula sentences are short but they are constructed on the basis of large experiences. Great men said whatever they said. The formulas are called statements of sentences. The meaning of sutras opens with contemplation. The originator of the last pilgrimage of religion, the twenty-fourth Tirthankar, Lord Mahavir Swami……………..

“हर बार जब मैं वास्तविकता से मुंह मोड़ता हूं, तो यह दूसरा रूप लेकर मेरे सामने आ जाती है।” ‐ जेनिफर जूनियर
“Every time I close the door on reality, it comes in through the windows.” ‐ Jennifer Jr.

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment