किस्सा कप्तान गपोड़शंख का : अ० नेक्रासोव द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – उपन्यास | Kissa Kaptan Gapodshankh Ka : by A. Nekrasov Hindi PDF Book – Novel (Upanyas)

किस्सा कप्तान गपोड़शंख का : अ० नेक्रासोव द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - उपन्यास | Kissa Kaptan Gapodshankh Ka : by A. Nekrasov Hindi PDF Book - Novel (Upanyas)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name किस्सा कप्तान गपोड़शंख का / Kissa Kaptan Gapodshankh Ka
Author
Category, , , ,
Language
Pages 188
Quality Good
Size 4.4 MB
Download Status Available

किस्सा कप्तान गपोड़शंख का संछिप्त विवरण : अवकाशणप्राप्त साधारण-से दवाफरोश की जगह एक रोबदार कप्तान कफो पर सुनहरी कशीदाकारी समेत जहाजियो की पूरी वर्दी पहने मेज पर बैठे तथा किसी प्राचीन पुस्तक के अध्ययन मे डूबे हुए थे। वे कुछ जले हुए बहुत बडे पाइप के मिरे को गुस्से से कुतर रहे थे, बिना कमानी का चश्मा गायब था और पके हुए अस्त-व्यस्त……

Kissa Kaptan Gapodshankh Ka PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Avakashaprapt sadharan-se davapharosh ki Jagah ek Robadar kaptan kapho par sunahari kasheedakari samet jahajiyo ki poori vardee pahane mej par baithe tatha kisi pracheen pustak ke adhyayan me doobe huye the. Ve kuchh jale huye bahut bade paip ke mire ko gusse se kutar rahe the, bina kamani ka chashma Gayab tha aur pake huye ast-vyast……..

Short Description of Kissa Kaptan Gapodshankh Ka PDF Book : In place of the simple décor, the retired captain sat on a table wearing the full uniform of the ships, including the golden embroideries, on the cuffs and immersed in the study of an ancient book. They were muttering angrily with some burnt, very large pipe mire, missing segmental glasses and baked chaff………

“स्वत्व (आत्म तत्व) कोई बनी बनाई वस्तु नहीं होती है, कर्म के चयन के परिणाम स्वरूप इसका निरन्तर निर्माण करना पड़ता है।” ‐ जॉन ड्यूई
“The self is not something ready-made but something in continuous formation through choice of action.” ‐ John Dewey

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment