कुंडली दर्पण : अनूप मिश्र द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – ग्रन्थ | Kundali Darpan : by Anup Mishra Hindi PDF Book – Granth

कुंडली दर्पण : अनूप मिश्र द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - ग्रन्थ | Kundali Darpan : by Anup Mishra Hindi PDF Book - Granth
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name कुंडली दर्पण / Kundali Darpan
Author
Category, , , ,
Language
Pages 132
Quality Good
Size 25 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : सूर्योदय से आरम्भ कर जन्मकाल तक जितने घण्टा-मिनट बीतें हों उस संख्या को ५गुणा कर गुणन-फल में दो भाग दें तब जो लब्धि आवे वही जन्म-कलिक इष्ट घटी होती है। यही इष्ट घाटी साडी जन्मकुंडली का मूल(आधार) होती है। सारा फलादेश इसी पर निर्भर रहता है। अत इसकी सिद्धि यावच्छक्य पुरे विचारों के साथ अवश्य ……..

Pustak Ka Vivaran : Suryoday se aarambh kar janmakal tak jitane ghanta-minat beeten hon us sankhya ko 5 guna kar gunan-phal mein do bhag den tab jo labdhi aave vahee janm-kalik isht ghatee hotee hai. Yahee isht ghatee saadee janmakundalee ka mool(aadhaar) hoti hai. Sara phaladesh isee par nirbhar rahata hai. At isakee siddhi yavachchhaky pure vichAaron ke sath avashy…………

Description about eBook : Beginning from sunrise to the hour of birth till the time of birth, multiply that number by 5 times and divide it into two parts of multiplication. This favored valley is the root (base) of the Sadi horoscope. The entire command depends on it. Hence its accomplishment must be accompanied by all-round ideas……….

“नन्हे शिशु के जन्म का अर्थ है कि भगवान यह चाहते हैं कि यह दुनिया बनी रहे।” ‐ कार्ल सैन्बर्ग
“A baby is God’s opinion that the world should go on.” ‐ Carl Sanburg

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment