कुसुम कुमारी : देवकीनन्दन खत्री द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – उपन्यास | Kusum Kumari : by Devaki Nandan Khatri Hindi PDF Book – Novel (Upanyas)

Book Nameकुसुम कुमारी / Kusum Kumari
Author
Category, , , ,
Language
Pages 278
Quality Good
Size 43 MB

पुस्तक का विवरण : ठीक दोपहर का वक्त और गर्मी का दिन है। सूर्य अपनी पूरी किरणों का मजा दिखा रहे हैं। सुनसान मैदान में दो आदमी खूबसूरत और तेज घोड़ों पर सवार साये की तलाश और ठंडी जगह की खोज में इधर-उधर देखते घोड़ा फेंके चले जा रहे हैं। ये इस बात को बिलकुल नहीं जानते कि शहर किस तरफ है या आराम लेने के लिए ठंडी जगह कहां मिलेगी। घड़ी-घड़ी रूमाल से अपने मुंह का पसीना पोंछते और घोड़ा……..

Pustak Ka Vivaran : Theek Dophar ka vakt aur Garmi ka din hai. Soory Apani poori kiranon ka maja dikha rahe hain. Sunasan maidan mein do Aadami khoobasoorat aur tej ghodon par savaar saye kee talash aur thandi jagah kee khoj mein idhar-udhar dekhate ghoda phenke chale ja rahe hain. Ye is bat ko bilakul nahin janate ki shahar kis taraph hai ya Aaram lene ke liye thandi jagah kahan milegi. Ghadi-ghadi Roomal se apane munh ka paseena ponchhate aur ghoda…….

Description about eBook : It is midday and summer day. Sun is showing the full splendour of its rays. In the deserted field, two men are riding on beautiful and sharp horses, looking for shadows and looking for a cool place. They do not know exactly which side the city is or where to find a cool place to take rest. Repeatedly wiping the sweat of your mouth with a handkerchief and the horse ………

“अच्छी किताब एक जादुई कालीन की तरह है जो आहिस्ते से हमें उस दुनिया की सैर कराती है जहां दूसरी किसी चीज़ के ज़रिए हम प्रवेश नहीं कर सकते।” ‐ कैरोलीन गॉर्डोन (१८९५-१९८१)
“A well-composed book is a magic carpet on which we are wafted to a world that we cannot enter in any other way.” ‐ Caroline Gordon (1895-1981)

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment