लाल चोंच वाले पंछी : लक्ष्मीकांत मुकुल द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कविता | Lal Chonch Vale Panchhi : by Laxmikant Mukul Hindi PDF Book – Poem (Kavita)

Book Nameलाल चोंच वाले पंछी / Lal Chonch Vale Panchhi
Author
Category, , , ,
Language
Pages 112
Quality Good
Size 220 KB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : कोई भूल नहीं पाता गांव की पतली पगडडडी कबूतरों के झुंड आकाश में घूमने चले जा रहे हें क्षितिज के पार सुनने लहरों का संगीत गेंहूँ के चौड़े खेतों के बीच नहीं दिखता बिजू का तना हुआ लोहबान मेंडों पर जाते ही उतर आयी हे पशुओं की तीखी भूख खाली शाम में अब किसान बतरस में नहीं उल्झे हैं इन दिनों वे गुनगुना रहे हैं धान ओसाने के गीत…….

Pustak Ka Vivaran : KoI Bhool nahin Pata Ganv kee Patali Pagadandi Kabootaron ke jhund Aakash mein Ghoomane chale ja rahe hen kshitij ke par Sunane laharon ka Sangeet Genhoon ke chaude kheton ke beech nahin dikhata bijoo ka tana huya lohaban mendon par jate hee utar Aayi he Pashuon kee Teekhi bhookh khali sham mein ab kisan bataras mein nahin ulajhe hain in dinon ve Gunaguna rahe hain dhaan Usane ke geet………

Description about eBook : No one is able to forget the thin trails of village pigeons going to roam in the sky, listening to the music of the waves across the horizon is not seen among the wide fields of wheat, the scrambled myrrh has come down on mendo, the fierce hunger of animals is empty. Now in the evening, the farmers are not entangled in the water, these days they are humming the songs of rice paddy …….

“कल तो चला गया। आने वाले कल अभी आया नहीं है। हमारे पास केवल आज है। आईये शुरुआत करें।” मदर टेरेसा
“Yesterday is gone. Tomorrow has not yet come. We have only today. Let us begin.” Mother Teresa

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment