लोगबाग : इब्बार रब्बी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – कविता | Logbag : by Ibbar Rabbi Hindi PDF Book – Poem (Kavita)

लोगबाग : इब्बार रब्बी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - कविता | Logbag : by Ibbar Rabbi Hindi PDF Book - Poem (Kavita)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name लोगबाग / Logbag
Author
Category, , , ,
Language
Pages 110
Quality Good
Size 894 KB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : जिस कागज पर मैंने लिखी कविता उससे चिड़िया घोंसला बना रही है। कविता की कतरनों पर बैठी बह अंडे से रही है कविता बन रही है भाषा मेरे और उसके बीच । सुनसान में गर्मी दे रहे हैं शब्द मुझसे जातकों तक लहरा रहे हैं पानी की तरह मेरे शब्द कविता घोंसला बना रही हैं वृक्ष बन रही है मुझसे निकलकर प्रकृति……..

Pustak Ka Vivaran : Jis Kagaj par Mainne Likhi kavita usase chidiya Ghonsala bana rahi hai. kavita ki kataranon par baithi bah Ande se rahi hai kavita ban rahi hai bhasha mere aur usake beech . Sunasan mein Garmi de rahe hain shabd mujhase jatakon tak lahara rahe hain Pani ki Tarah mere shabd kavita Ghonsala bana rahi hain vrksh ban rahi hai Mujhase Nikalakar prakrti………

Description about eBook : The paper on which I wrote the poem is making a bird’s nest. Sitting on the clippings of the poem, eggs are flowing, the language is being created between me and him. Words are giving heat to the desert in my desert, my words are waving to the natives, like water my words are making a nest………..

“यदि बार-बार असफल नहीं हो रहे हैं तो इसका अर्थ है कि आप कुछ आविष्कारक काम भी नहीं कर रहे हैं।” वुडी एल्लेन
“If you’re not failing every now and again, it’s a sign you’re not doing anything very innovative.” Woody Allen

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment