महाघातक क्रोधभैरव (क्रोधराज) मंत्र साधना : गुरुदेव राज वर्मा जी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – तंत्र मंत्र | Mahaghatak Krodh Bhairav (Krodhraj) Mantra Sadhana : by Gurudev Raj Verma Ji Hindi PDF Book – Tantra Mantra

Book Nameमहाघातक क्रोधभैरव (क्रोधराज) मंत्र साधना / Mahaghatak Krodh Bhairav (Krodhraj) Mantra Sadhana
Author
Category, , , , , , ,
Language
Pages 9
Quality Good
Size 344 KB
Download Status Available
 चेतावनी– यह पुस्तक केवल शोध कार्य के लिए है| इस पुस्तक से होने वाले परिणाम के लिए आप स्वयं उत्तरदायी होंगे न कि 44Books.com

पुस्तक का विवरण : क्रोध भैरव के मंत्र जप करने से मनुष्य का त्रिलोक पर अधिपत्य होता है। क्रोधमंत्र के उच्चारण मात्र से भूतप्रेत पिशाचवेताल ब्रह्मराक्षस लौकिक देवगन चरों दिशाओं से भाग जाते है। इस मन्त्र कस प्रभाव से साधक का शरीर वज्र के समान सुदृढ़ हो जाता है तथा साधक………..

Pustak Ka Vivaran : Krodh Bhairav ke mantr jap karane se manushy ka trilok par adhipaty hota hai. Krodhamantr ke uchcharan matra se bhootapret pishachavetal brahmarakshas laukik devagan charon dishaon se bhag jate hai. Is mantr kas prabhav se sadhak ka shareer vajr ke saman sudrdh ho jata hai tatha sadhak…………

Description about eBook : By chanting the mantra of anger Bhairava, man has dominion over the trilok. With the utterance of Krodhamantra, the ghostly vampire Vetal Brahmarakshas the cosmic Devgan flee from all directions. With this tightening of the mantra, the body of the seeker becomes strong like the thunderbolt and the seeker………

“जीवन का लक्ष्य है आत्मविकास। अपने स्वभाव को पूर्णतः जानने के लिऐ ही हम इस दुनिया में है।” ऑस्कर वाइल्ड
“The aim of life is self-development. To realize one’s nature perfectly – that is what each of us is here for.” Oscar Wilde

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment