मन ही पूजा मन ही धूप : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – आध्यात्मिक | Man Hi Puja Man Hi Dhoop : Hindi PDF Book – Spiritual (Adhyatmik)

मन ही पूजा मन ही धूप : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - आध्यात्मिक | Man Hi Puja Man Hi Dhoop : Hindi PDF Book - Spiritual (Adhyatmik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name मन ही पूजा मन ही धूप / Man Hi Puja Man Hi Dhoop
Author
Category,
Language
Pages 200
Quality Good
Size 2 MB
Download Status Available

मन ही पूजा मन ही धूप का संछिप्त विवरण : शास्त्र-विदों का कहना है कि स्त्री-जाति के लिए वेदपाठ, गायत्री मंत्र श्रषण और ओम शब्द का उच्चारण वर्जित है। प्रभु, मेंर मुख से अनायास ही ओम का उच्चारण हो जाया करता है, खास कर नादब्रह्म ध्यान करते समय तो उच्चारण करना ही पड़ता है। तो मन में डर सा लगता है कि ऐसा क्‍यों कहा गया है ! क्या स्त्री-जाति……..

Man Hi Puja Man Hi Dhoop PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Shastra-vidon ka kahana hai ki Stri-Jati ke liye vedpath, Gayatri Mantra shravan aur om shabd ka uchcharan varjit hai. Prabhu, mere mukh se Anayas hi om ka uchcharan ho jaya karta hai, khas kar Nadabrahm dhyan karate samay to uchcharan karna hi padata hai. To Man mein dar sa lagta hai ki aisa k‍yon kaha gaya hai! Kya Stri-jati……..
Short Description of Man Hi Puja Man Hi Dhoop PDF Book : Scriptures say that it is forbidden for women to read Vedas, hear Gayatri Mantra and chant the word Om. Lord, Om is uttered out of my mouth unintentionally, especially while meditating on Naadbrahm, it has to be uttered. So there is a fear in my mind that why has it been said! Whether female caste………
“मकसद की निश्चितता सभी उपलब्धियों का प्रारंभिक बिंदु है।” डब्लू क्लिमेंट स्टोन
“Definiteness of purpose is the starting point of all achievement.” W Clement Stone

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment