मनमौजी हाथी : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – बच्चों की पुस्तक | Manmauji Hathi : Hindi PDF Book – Children’s Book (Bachchon Ki Pustak)

मनमौजी हाथी : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - बच्चों की पुस्तक | Manmauji Hathi : Hindi PDF Book - Children's Book (Bachchon Ki Pustak)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name मनमौजी हाथी / Manmauji Hathi
Author
Category, ,
Language
Pages 33
Quality Good
Size 3 MB
Download Status Available

मनमौजी हाथी का संछिप्त विवरण : जब वह बंदरगाह पर उतरे तो सर्कस मालिक ने उनकी गिनती की। एक, दो, तीन, चार, पांच, छह, सात, आठ, नौ, दस हाथी। उनमे के और जुड़कर बने – ग्यारह ओलिवर ने कहा। जरूर कुछ गड़बड़ हुई है। मैंने तो सिर्फ दस हाथी ही मगाएं थे। सर्कस के मालिक ने कहा। हमें ग्यारह की जरुरत नहीं……

Manmauji Hathi PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Jab vah Bandargah par utare to circus malik ne unaki Ginatee ki Ek, do, teen, char, Panch, chhah, Sat, Aath, Nau, Das hathi. Uname ke aur judakar bane – Gyarah olivar ne kaha. Jaroor kuchh Gadbad huyi hai. Mainne to sirph das hathi hee magayen the. circus ke Malik ne kaha. Hamen gyarah kee jarurat nahin hai………
Short Description of Manmauji Hathi PDF Book : He was counted by the circus owner when he landed at the port. One, two, three, four, five, six, seven, eight, nine, ten elephants. They became more connected – Eleven Oliver said. Something is definitely wrong. I had only brought ten elephants. The owner of the circus said. We do not need eleven ………
“अपने को संभालने के लिए अपने मस्तिष्क का प्रयोग करें; दूसरों के साथ व्यवहार करने में अपने दिल का प्रयोग करें।” ‐ डोनाल्ड लेयर्ड
“To handle yourself, use your head; to handle others, use your heart.” ‐ Donald Laird

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment