‘मई’ 2010 मंत्र-तंत्र-यंत्र विज्ञान : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – पत्रिका | May 2010 Mantra-Tantra-Yantra Vigyan : Hindi PDF Book – Magazine (Patrika)

‘मई’ 2010 मंत्र-तंत्र-यंत्र विज्ञान : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – पत्रिका | May 2010 Mantra-Tantra-Yantra Vigyan : Hindi PDF Book – Magazine (Patrika)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name ‘मई’ 2010 मंत्र-तंत्र-यंत्र विज्ञान / May 2010 Mantra-Tantra-Yantra Vigyan
Category,
Pages 88
Quality Good
Size 60 MB
Download Status Available
 चेतावनी– यह पुस्तक केवल शोध कार्य के लिए है| इस पुस्तक से होने वाले परिणाम के लिए आप स्वयं उत्तरदायी होंगे न कि 44Books.com

पुस्तक का विवरण : सामने वाला शिष्य नहीं बन पाए और हो सकता है | बहुत जल्दी बन जाए। मगर संसार में यह हनुमान का उदाहरण है कि है वह शिष्य देवताओं से भी अधिक पूजा जाने लगा है। भारतवर्ष में राम के इतने मंदिर नहीं होंगे जितने हनुमान के हैं। शाम कृष्ण और अन्य देवताओं के इतने मंदिर हैं नहीं। उनके मंदिरों को जोड़कर जो संख्या बनती है उससे भी ज्यादा हनुमान के मंदिर हैं…….

Pustak Ka Vivaran : Samane vala Shishy Nahin ban paye aur ho Sakata hai. Bahut Jaldi ban jaye. Magar Sansar mein yah hanuman ka udaharan hai ki hai vah shishy devatayon se bhee Adhik pooja jane laga hai. Bharatavarsh mein Ram ke Itane Mandir nahin honge jitane hanuman ke hain. Sham krshn aur any devataon ke itane mandir hain nahin. Unake Mandiron ko jodkar jo Sankhya banati hai usase bhee jyada hanuman ke Mandir hain……….

Description about eBook : The disciple in front was not able to be and may be. Be made very quickly. But in the world this is an example of Hanuman that he has become more worshiped than the disciple gods. There will not be as many temples of Rama as there are of Hanuman in India. There are not so many temples of evening Krishna and other deities. There are more Hanuman temples than the number made by adding their temples ……….

“ऐसा भी वक़्त आता है जब व्यक्ति को अगर अपनी अन्तरात्मा के प्रति जवाबदेह होना हो तो उसे अपने नेता की सुनने से इंकार करना पड़ सकता है।” ‐ हार्टले शॉक्रॉस, बैरिस्टर (1902-2003)
“There comes a point when a man must refuse to answer to his leader if he is also to answer to his own conscience.” ‐ Hartley Shawcross, Barrister (1902-2003)

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment