मृत्युञ्जय : लक्ष्मीनारायण मिश्र द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – नाटक | Mrityunjay : by Lakshminarayan Mishra Hindi PDF Book – Drama (Natak)

Book Nameमृत्युञ्जय / Mrityunjay
Author
Category, , , , , ,
Language
Pages 149
Quality Good
Size 15.6 MB
Download Status Available

मृत्युञ्जय का संछिप्त विवरण : संध्या निकट है। आकाश में पक्षी रंग-रंग की नदी –सी पंक्ति बनाकर उड़े जा रहे है। पक्के दोतल्ले मकान के नीचे वाले बड़े कमरे के सामने बरामदे में खम्बे कुछ घूमिल हो गए है , जैसे अधिक दिन दे इनकी सफेदी नहीं हुई है। बड़े कमरे के द्वार खुले है। भीतर कई कंठो की धीमी ध्वनि सुन पड़ती……

Mrityunjay PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Sandhya Nikat hai. Akash mein pakshee rang-rang kee nadi-see pankti banakar ude ja rahe hai. Pakke dotalle makan ke neeche vale bade kamare ke aamane baramade mein khambe kuchh ghoomil ho gaye hai , jaise adhik din de inakee saphedee nahin huee hai. bade kamare ke dvaar khule hai. bheetar kayi kantho kee dheemee dhvani sun padatee hai…………
Short Description of Mrityunjay PDF Book : Evening is near. Birds are flying in the sky by making a colorful river-row. The pillars in the verandah have become somewhat rotated in front of the large room under the puckered dots, as if they have not been white for a long time. The doors to the large room are open. Many hear the slow sound inside……………….
“जिसके पास स्वास्थ्य है, उसके पास आशा है तथा जिसके पास आशा है, उसके पास सब कुछ है।” अरबी कहावत
“He who has health has hope, and he who has hope has everything.” Arabian Proverb

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment