मुगल दरबार भाग-4 : मुंशी देवीप्रसाद द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Mugal Darbar Bhag-4 : by Munshi Deviprasad Hindi PDF Book

मुगल दरबार भाग-4 : मुंशी देवीप्रसाद द्वारा हिन्दी पीडीएफ़ पुस्तक | Mugal Darbar Bhag-4 : by Munshi Deviprasad Hindi PDF Book
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name मुगल दरबार भाग-4 / Mugal Darbar Bhag-4
Author
Category, ,
Pages 720
Quality Good
Size 17 MB
Download Status Available

मुगल दरबार भाग-4 का संछिप्त विवरण : इसका नाम मेहतर सआदत था और यह हुमायूँ का एक दास था, जिसे ईरान के शाह तहमास्प ने दिया था। इसका तवरेज में पालन हुआ था। यह हुमायूं की सेवा में बराबर रहा और उसकी मृत्यु पर यह अकबर की सेवा में काम करता रहा । इस बादशाह के राज्य के 7वें वर्ष में यह बंगाल प्रांत के सरदारों से कुछ आज्ञा कहने के लिए भेजा गया। इस कार्य में शीघ्रता आवश्यक थी………

Mugal Darbar Bhag-4 PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Isaka nam Mehatar Sadat tha aur yah Humayoon ka ek das tha, jise Iran ke shah tahamasp ne diya tha. Isaka tavarej mein palan hua tha. Yah humayoon ki seva mein barabar raha aur usaki mrtyu par yah akabar ki seva mein kam karata raha. Is vadashah ke rajy ke 11ven varsh mein yah bangal prant ke saradaron se kuchh agya kahane ke lie bheja gaya. Is kary mein shighrata avashyak thi………….
Short Description of Mugal Darbar Bhag-4 PDF Book : Its name was Mehtar Sadat and it was a slave of Humayun, who was given by Shah Tahmasp of Iran. It was followed in the picture. It remained in the service of Humayun and on his death, he continued to work in Akbar’s service. In the 11th year of the state of this controversy, it was sent to the commanders of Bengal province to say some commands. This work was urgently needed…………..
“समस्त सफलताएं कर्म की नींव पर आधारित होती हैं।” – एंथनी राबिन्स
“Action is the foundational key to all success.” – Anthony Robbins

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment