हिंदी संस्कृत मराठी मन्त्र विशेष

ओरियण्टल कालेज मेगज़ीन नवम्बर १९४२ / Oriental College Magazine November 1942

ओरियण्टल कालेज मेगज़ीन नवम्बर १९४२ : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - पत्रिका | Oriental College Magazine November 1942 : Hindi PDF Book - Magazine (Patrika)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name ओरियण्टल कालेज मेगज़ीन नवम्बर १९४२ / Oriental College Magazine November 1942
Category, , , ,
Language
Pages 422
Quality Good
Size 26 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : संपादन-शास्त्र वह शास्त्र है जिसके द्वारा किसी प्राचीन रचना को उपलब्ध हस्तलिखित प्रतिलिपियों आदि के आधार पर हम उस रखना को इस प्रकार संशोधन कर सकें कि जहां तक संभव हो स्वयं रचयिता की मौलिक रचना या उसकी प्राचीन से प्राचीन अवस्था का ज्ञान हो सके । इसमें प्रतियों का परस्पर संबंध क्‍या है, उनका मूलस्रोत कौन सा है, उन में क्रमश: कौन कौन से परिवर्तन हुए और क्यों हुए, उन से…….

Pustak Ka Vivaran : Sampadan-Shastra vah shastra hai jisake dvara kisi pracheen rachana ko upalabdh hastalikhit pratilipiyon aadi ke Aadhar par ham us rakhana ko is prakar sanshodhan kar saken ki jahan tak sambhav ho svayan rachayita ki maulik rachana ya usaki pracheen se pracheen avastha ka gyan ho sake . Isamen pratiyon ka paraspar sambandh kya hai, unaka moolasnot kaun sa hai, un mein kramash: kaun kaun se parivartan huye aur kyon huye, un se…….

Description about eBook : Editing-scripture is the script by which we can amend the keeping of any ancient work on the basis of handwritten copies, etc., so that as far as possible we can have knowledge of the original composition of the author himself or his ancient to ancient condition. In this, what is the relationship between the copies, what is their origin, what changes took place in them and why did they happen…….

“आप पूछते हैं: जीवन का उद्देश्य और अर्थ क्या है? मैं इसका उत्तर केवल एक अन्य प्रश्न से दे सकता हूं: क्या आपके विचार से हम भगवान की सोच को समझने के लिए पर्याप्त बुद्धिमत्ता रखते हैं?” ‐ फ्रीमैन डायसन
“You ask: what is the meaning or purpose of life? I can only answer with another question: do you think we are wise enough to read God’s mind?” ‐ Freeman Dyson

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Leave a Comment