पाबूजी की पड़ : डॉ. महेन्द्र भानावत द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – धार्मिक | Pabuji Ki Pad : by Dr. Mahendra Bhanawat Hindi PDF Book – Religious (Dharmik)

पाबूजी की पड़ : डॉ. महेन्द्र भानावत द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - धार्मिक | Pabuji Ki Pad : by Dr. Mahendra Bhanawat Hindi PDF Book - Religious (Dharmik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name पाबूजी की पड़ / Pabuji Ki Pad
Author
Category, , , ,
Language
Pages 126
Quality Good
Size 4 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : शाहपुर जाने वाले पाबाजी थे। वहां दरबार ने इनको बड़ी इज्जत दी। ठिकाने में दीवालों पर कई जगह चित्रकारी कराई। अन्य ठिकानों में भी इन्हें चित्रकारी के लिए भेजा गया। बनेड़ा ठिकाने में भी बड़ा काम किया। इस चित्रकला को सीखने के लिए दरबार ने कलाकारों को बाहर भी भेजा। एक को जोधपुर, एक को उदयपुर और एक को अजमेर भेजा…….

Pustak Ka Vivaran : Shahapur Jane Vale Pabaji the. Vahan Darbar ne Inako Badi Ijjat dee. Thikane mein Deevalon par kayi Jagah Chitrakari karaee. Any Thikanon mein bhee inhen chitrakari ke liye bheja gaya. Baneda Thikane mein bhee bada kam kiya. Is Chitrakala ko seekhane ke liye Darabar Ne Kalakaron ko Bahar bhee bheja. Ek ko jodhapur, Ek ko Udaypur Aur Ek ko Ajmer bheja………

Description about eBook : There were Pabaji who went to Shahpur. The court gave him great respect. Painted the walls at the hideout in many places. He was also sent for painting in other locations. He also did a great job in the Banada hideout. The court also sent artists out to learn this painting. One sent to Jodhpur, one to Udaipur and one to Ajmer ………

“एक दिन कितना अच्छा होता है? जितना अच्छे से आप उसे गुज़ारते हैे। एक मित्र में कितना प्रेम होता है? निर्भर करता है आप उन्हें कितना देते हैं।” ‐ शेल सिल्वरस्टाइन
“How much good inside a day? Depends how good you live ‘em. How much love inside a friend? Depends how much you give ‘em.” ‐ Shel Silverstein

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment