पत्थर युग के दो बुत : आचार्य चतुरसेन द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – जीवनी | Patthar Yug Ke Do But : by Acharya Chatursen Hindi PDF Book – Biography (Jeevani)

पत्थर युग के दो बुत : आचार्य चतुरसेन द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - जीवनी | Patthar Yug Ke Do But : by Acharya Chatursen Hindi PDF Book - Biography (Jeevani)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name पत्थर युग के दो बुत / Patthar Yug Ke Do But
Author
Category, ,
Language
Pages 175
Quality Good
Size 1.95 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : पिताजी उसके साथ परिवार के एक सदस्य की भांति ही व्यवहार करते थे। वह हमारा पुराना नौकर था। मुझे उसने बचपन में गोद में खिलाया था। वह मुझे बिटिया रानी कहता था। विवाह होने के बाद तक भी वह इसी तरह कहता रहा। मैं उसे दद्दा कहती थी। माँ उसे बहुत मानती थी। और वह हमारे सारे ही दुःख-सुख कहती थी। माँ उसे बहुत मानती थी………………

Pustak Ka Vivaran : pitajI Usake Sath Parivar ke ek sadasy kee bhanti hee vyavahar karate the. Vah Hamara Purana Naukar tha. Mujhe usane bachapan mein god mein khilaya tha. Vah Mujhe bitiya Rani kahata tha. Vivah hone ke bad tak bhee vah isee tarah kahata raha. Main use Dadda kahati thee. Man use bahut manati thi. Aur Vah Hamare sare hi duhkh-sukh kahati thi. Man use bahut Manati thee……..

Description about eBook : Dad treated him like a family member. He was our old servant. He fed me in the lap as a child. He used to call me Bati Rani. He kept saying the same way even after getting married. I used to call her Dadda. Mother believed him a lot. And she used to say all our sorrows. Mother believed him a lot……….

“हमें भाईयों की तरह मिलकर रहना अवश्य सीखना होगा अन्यथा मूर्खों की तरह सभी बरबाद हो जाएंगे।” ‐ मार्टिन लूथर किंग, जूनियर
“We must learn to live together as brothers or perish together as fools.” ‐ Martin Luther King, Jr.

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment