रात ठीक दो बजे : मूकदर्शिका द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – रोमांचक | Raat Thik 2 Baje : by Mukdarshika Hindi PDF Book – Thriller (Romanchak)

रात ठीक दो बजे : मूकदर्शिका द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - रोमांचक | Raat Thik 2 Baje : by Mukdarshika Hindi PDF Book - Thriller (Romanchak)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name रात ठीक दो बजे / Raat Thik 2 Baje
Author
Category, , ,
Language
Pages 21
Quality Good
Size 710 KB
Download Status Available

रात ठीक दो बजे का संछिप्त विवरण : ” उसके तरफ मत देखना” मास्टर जी ने पहले ही आगाह कर दिए थे, इस बार लेके तीसरी बार उस लड़के से मैंने कभी आँखे नहीं मिलाई थी | पर मन मन में पता लगता था घुर जरुर रहा है | ये भी समझ में आता था उसकी आँखे बड़ी-बड़ी है- अस्वाभाबिक बड़ी | जैसे आम इंसान की नहीं होनी जाहिए………

Raat Thik 2 Baje PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : “Uske taraph mat dekhna” mastar jee ne pahle hi aagah kar die the, is baar leke tisari baar us ladke se mainne kabhi aankhe nahin milai thi. Par man man mein pata lagta tha ghur jarur raha hai. Ye bhi samajh mein aata tha uski aankhe badi-badi hai- asvabhabik badi. Jaise aam insan ki nahin honi chahie…………
Short Description of Raat Thik 2 Baje PDF Book : “Do not look at him” Masterji had already warned, this time, for the third time I never met the boy. But the mind was aware that the spinning was necessary. It was also understood that his eyes are big – as big as a big book. Should not be like a human being…………..
“साहसी व्यक्ति ही विश्वास से परिपूर्ण होता है।” ‐ मार्कस टूल्लियस सिसेरो
“A man of courage is also full of faith.” ‐ Marcus Tullius Cicero

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment