रणांगण : विश्राम बेडेकर द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – उपन्यास | Ranangan : by Vishram Bedekar Hindi PDF Book – Novel (Upanyas)

रणांगण : विश्राम बेडेकर द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - उपन्यास | Ranangan : by Vishram Bedekar Hindi PDF Book - Novel (Upanyas)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name रणांगण / Ranangan
Author
Category, ,
Language
Pages 125
Quality Good
Size 5.28 MB
Download Status Available

पुस्तक का विवरण : मेरे मित्र श्री वसन्त देव ने यह उपन्यास मेरे साथ पढ़ा और अनुवाद की दृष्टि अमूल्य सुझाव समय-समय पर दिए इस के लिए औपचारिक रूप से उन का आभारी होना उन की रसिकता और अपनी आपस की मित्रता अपमान करना होगा। यह उपन्यास छप कर हिंदी के पाठकों समक्ष आया है भारतीय ज्ञानपीठ के श्री लक्ष्मीचन्द्र जेन और मेरे मित्र डॉ. प्रभाकर माचवे के कारण…….

Pustak Ka Vivaran : Mere Mitra shree Vasant dev ne yah upanyas mere sath padha aur anuvad kee drshti amooly sujhaav samay-samay par diye is ke liye aupacharik roop se un ka aabhari hona un kee rasikata aur apani Aapas kee mitrata apaman karana hoga. Yah upanyas chhap kar hindi ke pathakon samaksh aaya hai bharatiya gyanapeeth ke shri lakshmeechandra jain aur mere mitra do. Prabhakar machave ke karan…………

Description about eBook : My friend Mr. Vasant Dev read this novel with me and the invaluable suggestions of the translation point of view from time to time would be to be formally grateful to him for it would offend his rarity and his friendliness. This novel has been published and Hindi readers have come forward because of Shri Lakshmi Chandra Jain of Indian Jnanpith and my friend Dr. Prabhakar Machwe………..

“आपके आसपास के लोगों में से कोई भी जब आपके मानदंडों पर खरा न उतरे तो मान लीजिए कि अपने मानदंडों को फिर से परख लेने का समय आ गया है।” ‐ बिल लेमली
“When nobody around you seems to measure up, it’s time to check your yardstick.” ‐ Bill Lemley

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment