संस्कारविधि : महर्षि दयानंद सरस्वती | Sanskarvidhi : by Maharishi Dayanand Saraswati Hindi PDF Book

पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name संस्कारविधि / Sanskarvidhi
Author
Category
Language
Pages 256
Quality Good
Size 1 MB
Download Status Available

संस्कारविधि पुस्तक का कुछ अंशमानव जीवन की उन्नति में संस्कारों का विशिष्ट महत्व है| मानव की शारीरिक, मानसिक तथा आत्मिक उन्नति के लिए जन्म से लेकर म्रत्युपर्यंत भिन्न-भिन्न समय पर संस्कारों की व्यवस्था प्राचीन ऋषि-मुनियों ने बहुत ही सुंदर ढंग से की है| संस्कारों से ही मानव को द्विज बनने का अधिकार मिलता है…………..

Sanskarvidhi PDF Pustak in Hindi Ka Kuch Ansh : Apane pachh mein prastav pas kara lete hain. Aise praja-nashak phanoonon ke banane ke samay usaka vishodh karana praja kee or se chunegaye bhemvaron ka kartavy hai. Kitu ve log nagar-dharm par dhyan na dekar, apane kartavy se gir jaate hain……….
Short Passage of Sanskarvidhi Hindi PDF Book : Get the resolution passed in your favor. At the time of making such anti-people laws, it is the duty of the Bhemvars elected on behalf of the people to investigate them. But those people fall from their duty, not paying attention to the religion of the city…….
“उन लोगों से दूर रहें जो आप आपकी महत्त्वकांक्षाओं को तुच्छ बनाने का प्रयास करते हैं। छोटे लोग हमेशा ऐसा करते हैं, लेकिन महान लोग आपको इस बात की अनुभूति करवाते हैं कि आप भी वास्तव में महान बन सकते हैं।” ‐ मार्क ट्वेन
“Keep away from people who try to belittle your ambitions. Small people always do that, but the really great make you feel that you, too, can become great.” ‐ Mark Twain

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment