सन्तकवि दरिया – एक अनुशीलन : धर्मेन्द्र ब्रह्मचारी शास्त्री द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – सामाजिक | Santkavi Dariya – Ek Anusheelan : by Dharmendra Brahmachari Shastri Hindi PDF Book – Social (Samajik)

सन्तकवि दरिया - एक अनुशीलन : धर्मेन्द्र ब्रह्मचारी शास्त्री द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - सामाजिक | Santkavi Dariya - Ek Anusheelan : by Dharmendra Brahmachari Shastri Hindi PDF Book - Social (Samajik)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name सन्तकवि दरिया – एक अनुशीलन / Santkavi Dariya – Ek Anusheelan
Author
Category, , , ,
Language
Pages 534
Quality Good
Size 33 MB
Download Status Available

सन्तकवि दरिया – एक अनुशीलन का संछिप्त विवरण : सच्चे सन्‍्त की उपमा यदि उस हंस से दी जा सकती हे, जो नीर-क्षीर का विभेद कर देता है और जो मानस-सरोबर में सदा मोती चुगा करता हे, तो पाषण्डियों की उपमा उस बगुले से दी जा सकती है जो तन का उजला, पर मन का काला होता है और ध्यान का ढोंग बाँधकर अचानक मछलियों को धर दबोचता है। यदि प्रभू की पूजा करनी है तो मिथ्याचार और पाषण्डों से हृदय को मुक्त और शुद्ध करके सच्ची भावना से उसकी प्रार्थना करनी चाहिए……

Santkavi Dariya – Ek Anusheelan PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Sachche San‍t ki upama yadi us hans se di ja sakati he, jo neer-ksheer ka vibhed kar deta hai aur jo manas-sarobar mein sada moti chuga karata he, to pashandiyon ki upama us bagule se di ja sakati hai jo tan ka ujala, par man ka kala hota hai aur dhyan ka dhong bandhkar achanak machhaliyon ko dhar dabochata hai. yadi prabhoo ki pooja karani hai to mithyachar aur pashandon se hrday ko mukt aur shuddh karake sachchi bhavana se usaki prarthana karani chahiye……..
Short Description of Santkavi Dariya – Ek Anusheelan PDF Book : If a true saint can be likened to a swan, which differentiates the black and white, and who always picks pearls in the psyche, then the pandas can be given by the heron which is the light of the body, But the mind is black, and by pretending to meditate, suddenly catches the fishes. If you want to worship Lord, then you should pray to him in the true spirit, freeing and purifying the heart from falsehood and falsehood …….
“किसी को क्या अच्छा लगता है, वैसा करना खुशी का रहस्य नहीं है, जबकि खुशी का रहस्य तो वह कार्य करना है जो कि किया जाना चाहिए।” – जेम्स एम. बुर्री
“The secret of happiness is not doing what one likes, but liking what one has to do.” – James M. Burrie

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment