शाम्भवी तंत्र : डॉ गोपीनाथ कविराज द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – तंत्र मंत्र | Shambhavi Tantra : by Dr. Gopinath Kaviraj Hindi PDF Book – Tantra Mantra

शाम्भवी तंत्र : डॉ गोपीनाथ कविराज द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – तंत्र मंत्र | Shambhavi Tantra : by Dr. Gopinath Kaviraj Hindi PDF Book – Tantra Mantra
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name शाम्भवी तंत्र / Shambhavi Tantra
Author
Category, , ,
Language
Pages 134
Quality Good
Size 35.6 MB
चेतावनी यह पुस्तक केवल शोध कार्य के लिए है| इस पुस्तक से होने वाले परिणाम के लिए आप स्वयं उत्तरदायी होंगे न कि 44Books.com

पुस्तक का विवरण : इस तंत्र को प्रायः लुप्त तंत्र माना गया है| परम्परा की दृष्टि से इसे शैवतंत्र के अंतर्गत कहा जा सकता है| मानव के विकास की विधा में साधना का स्थान अन्यतम है| साधना क्रम मार्ग के अवलम्बन से सम्पन्न होती है| अर्थात क्रमिक रूप से सोपान क्रम से उर्ध्वारारोहण…………..

Pustak Ka Vivaran : Is Tantra ko prayah lupt tantra mana gaya hai. Parampara ki drshti se ise shaivatantr ke antargat kaha ja sakata hai. Manav ke vikas ki vidha mein sadhana ka sthan anyatam hai. Sadhana kram marg ke avalamban se sampann hoti hai. Arthat kramik roop se sopan kram se urdhvararohan…………..

Description about eBook : This system is often considered as the missing system. From the point of view of tradition, it can be called under Shaivtantra. In the mode of human development, the place of spiritual practice is the highest. Sadhana sequence is accomplished by following the path. That is, successively ascending step by step………..

“जिस प्रकार मैं एक गुलाम नहीं बनना चाहता, उसी प्रकार मैं किसी गुलाम का मालिक भी नहीं बनना चाहता। यह सोच लोकतंत्र के सिद्धांत को दर्शाती है।” ‐ अब्राहम लिंकन
“As I would not be a slave, so I would not be a master. This expresses my idea of democracy.” ‐ Abraham Lincoln

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment