शोध दिशा जनवरी – मार्च 2004 : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – पत्रिका | Shodh Disha January – March 2004 : Hindi PDF Book – Magazine (Patrika)

शोध दिशा जनवरी - मार्च 2004 : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - पत्रिका | Shodh Disha January - March 2004 : Hindi PDF Book - Magazine (Patrika)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name शोध दिशा जनवरी – मार्च 2004 / Shodh Disha January – March 2004
Author
Category, , ,
Language
Pages 64
Quality Good
Size 2 MB
Download Status Available

शोध दिशा जनवरी – मार्च 2004 का संछिप्त विवरण : “अशोक चक्रधर सिर्फ़ उस व्यक्ति का नाम नहीं है, जो दक्षिण दिल्‍ली की सरिता विहार नामक कॉलोनी में रहता है। अशोक चक्रधर सिर्फ़ उस व्यक्ति का नाम भी नहीं है, जो देश-विदेश के कवि सम्मेलनों के लिए ज़रूरी कवि है। अशोक चक्रधर सिर्फ़ उस व्यक्ति का नाम भी नहीं है, जिसने समीक्षा और समालोचना के क्षेत्र में नए आयाम स्थापित किए। अशोक चक्रथर सिर्फ़ उस व्यक्ति का नाम भी नहीं………

Shodh Disha January – March 2004 PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Ashok Chakradhar sirf us vyakti ka nam nahin hai, jo dakshin Dehli ki sarita vihar namak Colony mein rahata hai. Ashok chakradhar sirf us vyakti ka nam bhi nahin hai, jo desh-videsh ke kavi sammelanon ke liye zaroori kavi hai. Ashok chakradhar sirf us vyakti ka nam bhi nahin hai, jisane samiksha aur samalochana ke kshetra mein naye Aayam sthapit kiye. Ashok chakradhar sirf us vyakti ka nam bhi nahin……..
Short Description of Shodh Disha January – March 2004 PDF Book : Ashok Chakradhar is not just the name of a person who lives in South Delhi’s Sarita Vihar colony. Ashok Chakradhar is not only the name of the person, who is an important poet for the poetry conferences of the country and abroad. Ashok Chakradhar is not only the name of the person who established new dimensions in the field of review and criticism. Ashok Chakradhar is not only the name of that person……..
“आप पूछते हैं: जीवन का उद्देश्य और अर्थ क्या है? मैं इसका उत्तर केवल एक अन्य प्रश्न से दे सकता हूं: क्या आपके विचार से हम भगवान की सोच को समझने के लिए पर्याप्त बुद्धिमत्ता रखते हैं?” ‐ फ्रीमैन डायसन
“You ask: what is the meaning or purpose of life? I can only answer with another question: do you think we are wise enough to read God’s mind?” ‐ Freeman Dyson

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment