परिषद् पत्रिका अप्रैल १९९९ से मार्च २००० : हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – पत्रिका | Parishad Patrika April 1999 to March 2000 : Hindi PDF Book – Magazine (Patrika)

Book Nameपरिषद् पत्रिका अप्रैल १९९९ से मार्च २००० / Parishad Patrika April 1999 to March 2000
Category, , ,
Language
Pages 208
Quality Good
Size 18 MB
Download Status Available

परिषद् पत्रिका अप्रैल १९९९ से मार्च २००० पीडीऍफ़ पुस्तक का संछिप्त विवरण : नेपाली का फिल्म-जगत में प्रवेश उस समय हुआ, जब नब्बे प्रतिशत शायरों का बोलबाला था। यह अपने आप में एक चुनौतीपूर्ण कार्य था, जिसे नेपाली ने न मात्र स्वीकार किया अपितु अपनी पहचान भी बनायी। फिल्‍मी दुनिया में अपने आने की स्थिति का खुलासा करते हुए उन्होंने स्वयं कहा है- “लोग मेरे फिल्म-संसार में आने की शिकायत करते हैं, पर मात्र………….

Parishad Patrika April 1999 to March 2000 PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Nepali ka Philm-Jagat mein Pravesh us Samay huya, jab Nabbe Pratishat shayaron ka bolbala tha. Yah Apne aap mein ek Chunautipurn kary tha, jise Nepali ne na matra svikar kiya apitu apni pahchan bhi banayi. Fil‍mi duniya mein apne aane ki Sthiti ka khulasa karte huye unhonne svayan kaha hai- “Log Mere Film-Sansar mein aane ki shikayat karte hain, par matra………

Short Description of Parishad Patrika April 1999 to March 2000 Hindi PDF Book : Nepali’s entry into the film world took place at a time when ninety percent of the poets were dominant. This was a challenging task in itself, which Nepalese not only accepted but also made their mark. While disclosing the status of his arrival in the film world, he himself has said – “People complain about my coming to the film world, but only ………

 

“हर दिन मेरा सर्वश्रेष्ठ दिन है; यह मेरी जिन्दगी है। मेरे पास यह क्षण दुबारा नहीं होगा।” ‐ बर्नी सीगल
“Every day is my best day; this is my life. I’m not going to have this moment again.” ‐ Bernie Siegel

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment