तन्त्र सार : अभिनव गुप्त द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – तंत्र मंत्र | Tantra Sar : by Abhinav Gupt Hindi PDF Book – Tantra Mantra

तन्त्र सार : अभिनव गुप्त द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - तंत्र मंत्र | Tantra Sar : by Abhinav Gupt Hindi PDF Book - Tantra Mantra
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name तन्त्र सार / Tantra Sar
Author
Category, ,
Language
Pages 294
Quality Good
Size 23 MB
Download Status Available
 चेतावनी– यह पुस्तक केवल शोध कार्य के लिए है| इस पुस्तक से होने वाले परिणाम के लिए आप स्वयं उत्तरदायी होंगे न कि 44Books.com

पुस्तक का विवरण : उस विषय में जब विकल्प बिना किसी उपाय के अपने में अपना संस्कार कर सकता है, तब वह जीव पशुजनों” के द्वारा किये जानेवाले कार्यो से मुक्त होकर शुद्ध विद्या के अनुग्रह से शक्तिरूप धारण करता जिसके फलस्वरूप वह शाक्तज्ञान को उपाय रूप में अपनाता है। इस विषय में पिछले आक्लिक में विचार किया गया है। जब उसे अन्य कोई विकल्प उपायरूप में अपने संस्कार के लिए………..

Pustak Ka Vivaran : Us Vishay mein jab Vikalp bina kisi upay ke apane mein apana sanskar kar sakata hai, tab vah jeev Pashujanon” ke dvara kiye janevale karyo se mukt hokar shuddh vidya ke Anugrah se shaktiroop dharan karata jisake phalasvaroop vah shaktagyan ko upay Roop mein Apanaata hai. Is vishay mein pichhale Aaklik mein vichar kiya gaya hai. jab use any koi vikalp upayaroop mein apane sanskar ke liye……….

Description about eBook : In that matter, when the substitute can perform his own rites without any remedy, then that animal is free from the work done by the “animals” and takes power by the grace of pure learning, which results in the adoption of Shaktigana as a remedy. The subject has been considered in the previous case. When he has any other option for his rites in the above form ……….

“समस्त संसार के लिए हो सकता है कि आप केवल एक इंसान हों लेकिन संभव है कि किसी एक इंसान के लिए आप समस्त संसार हों।” जोसेफीन बिलिंग्स
“To the world you may be just one person but to one person you may be the world.” Josephine Billings

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

2 thoughts on “तन्त्र सार : अभिनव गुप्त द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – तंत्र मंत्र | Tantra Sar : by Abhinav Gupt Hindi PDF Book – Tantra Mantra”

    • नमस्कार, समस्या से अवगत कराने के लिए धन्यवाद् पुस्तक का लिंक अपडेट कर दिया गया है | अब आप पुस्तक डाउनलोड कर सकते हैं धन्यवाद्|

      Reply

Leave a Comment