तन्त्रमोद एवं शिवताण्डव : डॉ. महाप्रभु लालगोस्वामी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – तंत्र मंत्र | Tantramod Evan Shiv Tandav : by Dr. Mahaprabhu Lal Goswami Hindi PDF Book – Tantra Mantra

तन्त्रमोद एवं शिवताण्डव : डॉ. महाप्रभु लालगोस्वामी द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - तंत्र मंत्र | Tantramod Evan Shiv Tandav : by Dr. Mahaprabhu Lal Goswami Hindi PDF Book - Tantra Mantra
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name तन्त्रमोद एवं शिवताण्डव / Tantramod Evan Shiv Tandav
Author
Category, , ,
Language
Pages 408
Quality Good
Size 100 MB
Download Status Not Available
पुस्तक का डाउनलोड लिंक नीचे हरी पट्टी पर दिया गया है|

पुस्तक का विवरण : तांत्रिक आचार्य के अनुरूप आचार बहुत प्राचीन काल से प्रचलित होने पर भी प्राप्य तंत्र ग्रन्थ बहुत प्राचीन नहीं है। वस्तुत: बहुत प्राचीन किसी भी ग्रन्थ में तंत्र शब्द का उल्लेख भी नहीं मिलता है। वैदिक साहित्य में ‘तंत्र’ शब्द का व्यवहार होने पर भी यह प्रयोग शास्त्र विशेष के अर्थ में नहीं है। तांत्रिक उपनिषद………..

Pustak Ka Vivaran : Tantrik Achary ke Anuroop Aachar bahut pracheen kal se prachalit hone par bhee prapy Tantra Granth bahut pracheen nahin hai. Vastut: bahut pracheen kisi bhi granth mein tantra shabd ka ullekh bhee nahin milata hai. Vaidik sahity mein tantra shabd ka vyavahar hone par bhee yah prayog shastr vishesh ke arth mein nahin hai. Tantrik upanishad…………

Description about eBook : According to the Tantric Acharya, the Acharya Tantra Grantha is not very ancient even though it has been practiced since ancient times. In fact, there is no mention of the word Tantra in any of the ancient texts. In Vedic literature, even when the word ‘Tantra’ is used, this usage is not in the meaning of special scripture. Tantric Upanishad………………

“दिन प्रतिदिन की छोटी छोटी उपलब्धियों से ही मिलकर सफलता बनती है।” ‐ लैड्डी एफ. हूटर
“Success consists of a series of little daily victories.” ‐ Laddie F. Hutar Connect with us on Facebook

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment