तेल की पकोड़ियाँ : डॉ. प्रभाकर माचवे द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – साहित्य | Tel Ki Pakodiyan : by Dr. Prabhakar Machwe Hindi PDF Book – Literature (Sahitya)

तेल की पकोड़ियाँ : डॉ. प्रभाकर माचवे द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक - साहित्य | Tel Ki Pakodiyan : by Dr. Prabhakar Machwe Hindi PDF Book - Literature (Sahitya)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name तेल की पकोड़ियाँ / Tel Ki Pakodiyan
Author
Category,
Language
Pages 110
Quality Good
Size 39 MB
Download Status Available

तेल की पकोड़ियाँ पुस्तक का कुछ अंश : रैदास जूते गाँठते थे; नामदेव छीपा थे; और ‘प्रसाद” जी सुंघनी साहु की दूकान चलाते थें। अभी मैंने एक ‘षष्ठिव्रत’ नामक भारतीय अंगरेज़ी नव-कवि का संग्रह पढ़ा जिसमें उनके परिचय में लिखा है, वे नयी दिल्ली में सड़क के किनारे पर जूते पालिश करते थे, बाद में ‘स्टेट्समैन’ पत्र में उन्होंने नौकरी की । जनतन्त्र में कोई काम हलका नहीं हैं……..

Tel Ki Pakodiyan PDF Pustak Ka Kuch Ansh : Raidas joote Ganthate the; namdev chheepa the; aur prasad” ji sunghani sahu ki dookan chalate then. Abhi mainne ek shashthivrat namak bharatiy angarezi nav-kavi ka sangrah padha jisamen unake parichay mein likha hai, ve nayi delhi mein sadak ke kinare par joote palish karte the, bad mein stetsamain patra mein unhonne naukari ki. Jantantra mein koi kam halaka nahin hain……..
Short Passage of Tel Ki Pakodiyan PDF Book :  Raidas used to tie the shoes; Namdev was hiding; And ‘Prasad’ ji used to run the shop of Sunghani Sahu. I just read the collection of an Indian English neo-poet named ‘Shashthivrat’ in which it is written in his introduction, he used to polish shoes on the roadside in New Delhi, later he got a job in the ‘Statesman’ letter. No work is easy in democracy……..
“आप आराम की ज़िंदगी चाहते हैं तो आपको कुछ परेशानी तो उठानी ही होगी।” ‐ एबिगैल वैन ब्यूरेन
“If you want a place in the sun, you’ve got to put up with a few blisters.” ‐ Abigail Van Buren

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment