दरिन्दे : प्रभाकर माचवे द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – नाटक | Darinde : by Prabhakar Machwe Hindi PDF Book – Natak (Drama)

दरिन्दे : प्रभाकर माचवे द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – नाटक | Darinde : by Prabhakar Machwe Hindi PDF Book – Natak (Drama)
पुस्तक का विवरण / Book Details
Book Name दरिन्दे / Darinde
Author
Category, , , ,
Language
Pages 150
Quality Good
Size 1 MB
Download Status Available

दरिन्दे का संछिप्त विवरण : सबसे पहले तो मुझे जानवर पसद है। में जीवदया मण्डल का सदस्य नहीं हूं, त रोज चीटियों को चीनी या आटा ही खिलाता हूँ , पर पशु-पक्षी सब प्रकृति के अंग है। मैं भी – यात्री पुरुष भी प्रकृति से आबध्द है। एक तरह से मैं या हमीदुल्ला था हम सब जो इसे पढ़ रहे हैं, पशु है। पर केवल पशु नहीं है। पशु नाटक नहीं लिख सकते या…..

Darinde PDF Pustak Ka Sankshipt Vivaran : Sabase Pahale to mujhe Janvar pasand hai. Main Jeevadaya Mandal ka sadasy nahin hoon, na Roj cheetiyon ko cheenee ya aata hi khilata hoon , Par Pashu-Pakshi sab prakrti ke ang hai. Main bhee – Yani Purush bhi Prakrti se Aabadhd hai. Ek Tarah se main ya Hamidulla tha ham sab jo ise padh rahe hain, Pashu hai. Par keval Pashu nahin hai. Pashu Natak nahin likh sakate ya……….
Short Description of Darinde PDF Book : First of all I like animals. I am not a member of Jivdaya Mandal, nor do I feed sugar or flour to ants every day, but animals and birds are all part of nature. Me too – that is, man is also bound by nature. In a way it was me or Hamidullah, all of us who are reading this, are animals. But it is not just animals. Animals cannot write plays or………
“हमारे कई सपने शुरू में असंभव लगते हैं, फिर असंभाव्य, और फिर, जब हममें संकल्पशक्ति आती है तो ये सपने अवश्यंभावी हो जाते हैं।”
“So many of our dreams at first seem impossible, then seem improbable, and then, when we summon the will, they soon seem inevitable.” ‐ Christopher Reeve

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment