ठकुरानी बहू का बाजार : श्री रवीन्द्रनाथ टैगोर द्वारा हिंदी पीडीऍफ़ पुस्तक – उपन्यास | Thakurani Bahu Ka Bazar : by Shri Ravindra Nath Tagore Hindi PDF Book – Novel (Upanyas)

Book Nameठकुरानी बहू का बाजार / Thakurani Bahu Ka Bazar
Author
Category, , , ,
Language
Pages 152
Quality Good
Size 52 MB

पुस्तक का विवरण : दादाजी की उस पर कृपा थी, इसलिए वह रायगढ़ में सुख से जीवन व्यतीत कर रही थी। कुछ स्मरण नहीं पहले-पहल वह किस चातुरी से मुझे फंसा कर ले गई । मध्याह्न के लूक के समान उस समय मेरे मन में एक प्रकार का तेज था। शरीर का रक्त मस्तिष्क पर चढ़ आया था। मार्ग-कुमार्ग, ऊँच-नीच पूर्व और पश्चिम सब मेरी दृष्टि में समान थे। इसके पहले मेरे मन की ऐसी दशा कभी न हुई थी और न इसके पश्चात्‌र कभी……….

Pustak Ka Vivaran : Dadaji ki us par krpa thi, isaliye vah Raigarh mein sukh se jeevan vyateet kar rahi thi. Kuchh smaran nahin pahale-pahal vah kis chaturi se mujhe phansa kar le gayi . Madhyahn ke look ke saman us samay mere man mein ek prakar ka tej tha. shareer ka rakt mastishk par chadh aaya tha. Marg-kumarg, Unch-neech poorv aur pashchim sab meri drshti mein saman the. Isake pahale mere man ki aise dasha kabhi na huyi thee aur na isake pashchat‌ hi phir kabhi………..

Description about eBook : Grandpa was pleased with her, so she was living happily in Raigad. Nothing remembers the first thing with which chaturi she caught me. At that time, I had a kind of spark in my mind like a midday look. The blood of the body had reached the brain. The roadways, the highs, the low east and the west were all the same in my eyes. Never before had such a state of my mind ever existed, nor did I ever again ……

“आप प्रसन्न है या नहीं यह सोचने के लिए फुरसत होना ही दुखी होने का रहस्य है, और इसका उपाय है व्यवसाय।” जॉर्ज बर्नार्ड शॉ
“The secret of being miserable is to have leisure to bother about whether you are happy or not. The cure for it is occupation.” George Bernard Shaw

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Check Competition Books in Hindi & English - कम्पटीशन तैयारी से सम्बंधित किताबें यहाँ क्लिक करके देखें

Leave a Comment